Input your search keywords and press Enter.

पश्चिम बंगाल उपचुनाव में देरी से छिन सकती है ममता की कुर्सी, चुनाव आयोग पहुंचे TMC के नेता!

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट से हारकर मुख्यमंत्री बनीं ममता बनर्जी को लेकर पार्टी में अब चिंता बढ़ने लगी है। ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री बने रहने के लिए 5 नवंबर से पहले उपचुनाव में जीतकर विधानसभा पहुंचना होगा।

ऐसे में उपचुनाव की कोई सुगबुगाहट नहीं दिखने से चिंतित पार्टी नेता गुरुवार को नई दिल्ली में चुनाव आयोग के दफ्तर पहुंचे और खाली हुई सीटों पर जल्द उपचुनाव कराने की मांग की है। टीएमसी को डर है कि यदि कोरोना महामारी की वजहों से यदि उपचुनाव में देरी हुई तो ममता को इस्तीफा देना होगा।

टीएमसी सांसद सुदीप बंधोपाध्याय ने कहा, ”आज टीएमसी प्रतिनिधिमंडल ने सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त से दिल्ली में मुलाकात की। हमने अपील की है कि सभी उपचुनाव 6 महीने की भीतर संपन्न होने चाहिए। उन्होंने हमें सुना और हमें उम्मीद है कि चर्चा सफल होगी।”

विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद भवानीपुर सीट से जीते टीएमसी विधायक शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने यह सीट छोड़ दी है, ताकि ममता बनर्जी यहां से लड़ सकें। ममता बनर्जी 2011 से इस सीट पर दो बार विधायक बन चुकी हैं। लेकिन इस बार अपने पूर्व सहयोगी शुभेंदु अधिकारी को चुनौती देते हुए ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से लड़ीं। लेकिन चुनाव पूर्व घोषणा के मुताबिक, अधिकारी ने इस सीट से जीत हासिल की।