Input your search keywords and press Enter.

नियोजित शिक्षक मामला : SC में आज सुनवाई के बदले अगली तिथि होगी निर्धारित, जानिए

बिहार नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन की मांग पर कोर्ट में चल रही सुनवाई के मामले में मंगलवार को यानि आज सुप्रीम कोर्ट सुनवाई की अगली तिथि निर्धारित करेगा. विदित हो कि कोर्ट आज ही सुनवाई करने वाला था. जिसका इन्तजार प्रदेश के 3.7 लाख नियोजित शिक्षक कर रहे है.

समान वेतन की मांग को लेकर कोर्ट ने अगली सुनवाई की तिथि मंगलवार को निर्धारित की गई थी, लेकिन पिछले शनिवार को जारी केस लिस्ट में अचानक यह केस मंगलवार की दिन को सूचीबद्ध नहीं किया गया था. इसे लेकर कोर्ट नं 09 में इस केस की सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति अभय मनोहर सप्रे एवं उदय उमेश ललित के सामने याचिकाकर्ता ने अपील की.

मालूम हो कि बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अधिवक्ताओं ने न्यायाधीश से अपील करते हुए कहा कि इस मामले पर गंभीरता पूर्वक विचार करते हुए कोई दूसरी तिथि तय की जाए. इसके बाद न्यायाधीश ने आपस में लगभग तीन मिनट तक विचार विमर्श किया. फिर आश्वासन दिया की सूचीबद्ध नहीं होने के कारणों की जानकारी हम रजिस्टार जेनरल कार्यालय से लेंगे. इसके साथ ही कहा कि अगली सुनवाई की तिथि का फैसला मंगलवार को करेंगे. मालूम हो कि इस मामले की 19वें दिन छह सितंबर को सुनवाई की समाप्ति होना था. यानि आज लगभग अंतिम सुनवाई ही होनी थी.

Loading...

न्यायमूर्ति अभय मनोहर सप्रे एवं उदय उमेश ललित की खंडपीठ ने मौखिक व लिखित में आदेश दिया की इस मामले की सुनवाई की समाप्ति पिछले सुनवाई के दिन ही 11 सितंबर को निर्धारित की गई. इसके साथ ही कहा गया था कि शिक्षक संगठनों के अधिवक्ताओं को भी अपनी बात रखने का समय दिया जायेगा.

कोर्ट में मेंशन तथा न्यायाधीश के आश्वासन के बाद बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने कहा कि हमें उम्मीद है कि मंगलवार को जारी होने वाले पूरक लिस्ट में इस केस को सूचीबद्ध कर लिया जायेगा. यदि ऐसा संभव नहीं हो पाया तो न्यायाधीश आने वाले अगले सप्ताह में किसी भी तिथि को सुनवाई करेंगे. बता दें कि सभी समान काम समान वेतन की मांग कर रहे हैं. इस मांग को लेकर पटना हाइकोर्ट ने शिक्षकों के हक में फैसला सुनाया था. लेकिन राज्य सरकार ने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.