Input your search keywords and press Enter.

नशामुक्ति केंद्र से भागने के लिए इस नशेड़ी ने बनाया था गजब का प्लान, मौका मिलते ही……

%e0%a4%a8%e0%a4%b6%e0%a4%be%e0%a4%ae%e0%a5%81%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a4%bf


किशनगंज: बिहार सरकार द्वारा लागु शराबबंदी कानून के बाद बड़े पैमाने पर जिलों के सदर अस्पताल में नशामुक्ति केंद्र खोले गए है. इस केंद्र में वैसे मरीजों का इलाज होता है, जो किसी नशे का लत के कारण नशा का गुलाम हो चुके है. इस चलाये जा रहे नशामुक्ति केंद सिर्फ दिखावा साबित हो रहे हैं. लापरवाही का ऐसा ही मामला किशनगंज से जुड़ा है जहां बीती रात सदर अस्पताल के नशामुक्ति केंद्र से एक मरीज गायब हो गया. किशनगंज के नशमुक्ति केंद्र में मरीज को महज 24 घंटे पहले ही भर्ती कराया गया था जिसके बाद वो गायब हो गया.

जबकि नशामुक्ति केन्द्रों पर निगरानी का बहुत ही सक्त इतजाम होते है.प्राप्त जानकारी के अनुसार किशनगंज सदर अस्पताल में स्थापित इस नशामुक्ति केंद्र पर सुरक्षा के अलावा चिकित्सकीय निगरानी के कई इंतजाम मौजूद थे और डीएम के कहने पर मरीज को भर्ती किया गया था. पत्रकारों ने जब मरीज के भागने के बारे में पूछा तो अधिकारियों ने पल्ला झाड़ते हुए कह डाला कि मरीज दरवाजे से नहीं बल्कि खिड़की से भागा है.
Loading...

सूत्रों के अनुसार अस्पताल के खिड़की का आकार ऐसा नहीं था कि कोई रोगी वहां से निकल के भाग सके. भर्ती किया गया मरीज हबीबुर्रहमान डेंड्रएट का सेवन करता था और मंगलवार को ही डीएम के आदेश पर वह अस्पताल में रखा गया था. मरीज के गाएब होने के बाद अस्पताल प्रशासन हरकत में आई. अब सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है जिसमें मरीज के भागने और उसकी देखरेख की सच्चाइयां नजर आ रही हैं.

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Leave a Reply

Your email address will not be published.