Input your search keywords and press Enter.

पटना जिला समाहरणालय में लोगों के पसीने छूट रहे हैं!

पटना समाहरणालय

फाइल फोटो


सौरभ कुणाल,
जिला समाहरणालय में लोक सेवाओं को प्राप्त करने में लोगों के पसीने छूट रहे हैं. छह घंटे कतार में रहने के बाद भी वे अपना आवेदन जमा तक नहीं कर पा रहे हैं. यहाँ कुछ ऐसी महिलाएं भी थीं, जो पिछले तीन सप्ताह से आवेदन जमा करने के लिए समाहरणालय के चक्कर लगाने के बाद भी हताश होकर घर लौट गयी.


शनिवार को नया राशन कार्ड बनाने लंगरटोली से आयी ललिता देवी अपने दूधमुंहे बच्चे को लेकर छह घंटे से ज्यादा कतार में रही, बावजूद इसके काउंटर पर उसकी बारी नहीं आयी. अंत में हताश होकर वह रोते हुए घर लौट गयी. ऐसी ही कहानी कई और महिलाओं की भी है, जो राशन कार्ड बनाने आरटीपीएस काउंटर पहुंच रही हैं.
हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि यह अफवाह फैलायी जा रही है कि 31 मार्च ही इसकी आखिरी तारीख है. इसलिए आवेदकों की भीड़ उमड़ रही है जबकि आवेदन की प्रक्रिया सालों भर जारी रहेगी.

Loading...

पटना जिला समाहरणालय में आरटीपीएस काउंटर दो हैं, एक महिला के लिए और एक पुरुष के लिए. महिलाओं की संख्या काफी होती है. ऐसे में घंटों कतार में लगे रहने के बाद भी उनका नंबर नहीं आता है. वहीं, पुरुष काउंटर खाली रहने पर भी उनके आवेदन स्वीकार नहीं किये जाते हैं.सबसे ज्यादा परेशानी बुजुर्ग महिलाओं को हो रही है. राजेंद्र नगर से आयीं 65 साल की निलम देवी पिछले तीन सप्ताह से आवेदन जमा करने आ रही हैं, पर नहीं कर पा रही हैं. घंटों खड़े रहने में असमर्थ वह कुरसी पर बैठ भीड़ खत्म होने का इंतजार करती रह जा रही हैं.

ऐसे में जिला प्रशासन को चाहिए कि जिला समाहरणालय में भीड़ को देखते हुए काउंटर भी बढ़ाये जायें.
[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.