Breaking News
May 20, 2019 - नीरज कुमार ने तेजस्वी पर दागे सवाल, क्या आप नही चाहते कि लालूजी जेल से निकले ?
May 20, 2019 - एग्जिट पोल देख फूले नहीं समा रहे गिरिराज सिंह, शुरू किया विपक्ष पे हमलों का सिलसिला
May 20, 2019 - एग्जिट पोल पे मायावती और अखिलेश ने साधी चुप्पी, घंटे भर हुई मायावती के घर पे बैठक
May 20, 2019 - तेजस्वी ने एग्जिट पोल को लेके कही ये बड़ी बात
May 20, 2019 - एग्जिट पोल देख तेजस्वी पर गुस्से में पप्पू यादव
May 20, 2019 - एग्जिट पोल ने लालू परिवार को कर दिया खामोश
May 19, 2019 - नाराज मत होइए, बाकी चैनलों का भी बिहार का एग्जिट पोल देख लीजिये
May 19, 2019 - DBN Exit Poll रिजल्ट बिहार: एनडीए को बड़ी बढ़त
May 19, 2019 - सभी राज्यों का देखिये Exit Poll
May 19, 2019 - मनेर में रामकृपाल समर्थक मीसा पर भारी

sc/st एक्ट को लेकर सुप्रीमकोर्ट से स्वर्णो के लिए आई है अच्छी खबर

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

supreme court

मोदी सरकार द्वारा किये गए एससी-एसटी संशोधन कानून को अब सुप्रीमकोर्ट में चुनौती दी गई है. सुप्रीमकोर्ट ने इस कानून को अंसवैधानिक करार देने से पहले सरकार से इसका पक्ष जानना चाहा है. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर 6 हफ्ते जवाब मांगा है. जस्टिस एके सिकरी और जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने शुक्रवार को केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों न कानून के अमल पर रोक लगाई जाए.

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने कानून के अमल पर रोक लगाने की मांग की, जिस पर पीठ ने कहा कि बिना सरकार का पक्ष सुने बिना कानून के अमल पर रोक नहीं लगाई जा सकती. दो वकील-प्रिया शर्मा, पृथ्वी राज चौहान और एक NGO ने जनहित याचिका दायर कर सरकार के संशोधन कानून को चुनौती दी है.

याचिका में एससी-एसटी एक्ट पर तत्काल गिरफ्तारी पर रोक के सुप्रीम कोर्ट के 20 मार्च के फैसले को निष्प्रभावी बनाने के केंद्र सरकार के एससी-एसटी संशोधन कानून 2018 को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है. सुप्रीम कोर्ट के दो वकील प्रिया शर्मा, पृथ्वी राज चौहान और एक NGO ने जनहित याचिका दायर कर सरकार के संशोधन कानून को चुनौती दी है.

याचिका में कहा गया है कि सरकार का नया कानून असंवैधानिक है क्योंकि सरकार ने सेक्‍शन 18 ए के जरिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को निष्प्रभावी बनाया है जोकि गलत है और सरकार के इस नए कानून आने से अब बेगुनाह लोगों को फिर से फंसाया जाएगा. याचिका में यह भी कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट सरकार के नए कानून को असंवैधानिक करार दे और जब तक ये याचिका लंबित रहे, तब तक कोर्ट नए कानून के अमल पर रोक लगाए. आपको बता दें कि राष्ट्रपति ने सुप्रीम कोर्ट का फैसला निष्प्रभावी करने वाले एससी एसटी संशोधन कानून 2018 को मंजूरी दी थी. राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद एससी एसटी कानून पूर्व की तरह सख्त प्रावधानों से लैस हो गया है.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles