Input your search keywords and press Enter.

बच्चा राय ने लालू के साथ करीबी बढ़ाने के लिए खेला था यह खेल

bacha-rai-lalu


टॉपर्स घोटाले में तो रोज नए-नए खुलासे से सबकी नींद उड़ी हुई है. इसी केस में एक और बड़ा खुलासे के बारे में हम आपको बताने जा रहा है. इससे आपको विश्वास हो जायेगा बच्चा राय कितना शातिर और माहिर खिलाड़ी था. टॉपर्स घोटाले का मास्टरमाइंड और मुख्य आरोपी बच्चा राय उर्फ अमित कुमार ने सता के करीब जाने के लिए जो साजिश रची उसका अंदाजा शायद ही किसी को होगा. अब इस घोटाले की जाँच प्रदेश की सत्ता के गलियारे तक भी पहुँच गया है.

जब बच्चा राय ने देखा कि सत्ता की रस्सी राजद के हाथों में आ रही है तो उसने अपने जाल बिछाना शुरू किया. उसने लालू की पार्टी के तीन नेताओं का नाम जोड़ दिया था ट्रस्टियों की सूची में डाल दिया. नये खुलासे से पता चला है कि बच्चा राय ने इस मामले का एफआइआर दर्ज होने के एक महीने पहले ही अपनी पत्नी, चचेरा भाई और उसकी पत्नी का नाम अपने ट्रस्ट के न्यासी सदस्यों की सूची से हटा दिया था.
Loading...

जिन नेताओं को उसने ट्रस्टी के रूप में ऐड किया उनमें नगीना राय, राजवंशी राय और राजद नेता विशुनदेव राय शामिल हैं. विशुनदेव राय लालू यादव की पार्टी राजद के पूर्व एमएलसी रहे हैं और वर्तमान में पार्टी के सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं. ये तीनों नेता बच्चा राय के गांव किरतपुर (भगवानपुर, वैशाली) के पास के ही रहने वाले हैं.




[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Leave a Reply

Your email address will not be published.