Input your search keywords and press Enter.

जदयू नेता उड़ा रहे हैं सुप्रीमकोर्ट के आदेश की खिल्ली, लालबती लगा बढ़ा रहे अपनी शान

mayer bhagalpur

mayer bhagalpur


भागलपुर. अजित कुमार सोनू. स्मार्टसिटी भागलपुर में माननीय लोग ही कानूनों की सरेआम धज्जियाँ उड़ा रहे हैं. इतना ही नहीं क़ानून के रखवालों के सामने क़ानून का मजाक बनाना क़ानून का पालन कराने वालों के मुंह पर करारा तमाचा है. और यह तमाचा कोई और नहीं सत्ताधारी दल जदयू के नेता ही लगा रहे हैं। ये महाशय अभी भागलपुर के मेयर भी हैं। दीपू भुवानिया नाम है इनका. एक अखबार द्वारा शहर के सैंडिस कंपाउंड में आयोजित कार्यक्रम में ये महाशय अपनी गाड़ी में लालबत्ती लगाये पूरे शान से पहुंचे और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कमीश्नर साहेब की गाड़ी के ही सामने धड़ल्ले से लगी.

क़ानून के रखवालों के सामने क़ानून का यह खुला मजाक! मेयर साहब को किस क़ानून ने लालबत्ती लगाने का अधिकार दिया है? यह भागलपुरी समाज जानना चाहता है. छात्र संघर्ष समिति की ओर से मैंने एक माह पूर्व ही इस तरह क़ानून का उल्लंघन करते हुए लालबत्ती लगाकर घूमने वाले पर कानूनी कार्रवाई करने की मांग कमीश्नर, जिलाधिकारी, डीटीओ से की थी. किन्तु इसपर आज तक कोई ठोस एक्शन नहीं हुआ. इसी का नतीजा है कि आज भी ये माननीय क़ानून का मुंह चिढ़ा रहे हैं. क्या क़ानून सिर्फ गरीबों व् आमलोगों के लिये ही है, ये माननीय क़ानून और संविधान से ऊपर हैं?
Loading...

गौरतलब हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ कहा हैं कि वाहन की छत पर लाल बत्ती का उपयोग केवल उच्च संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के वाहनों पर ही किया जाएगा, और नीली बत्ती का उपयोग आपात सेवाओं, जैसे एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड और पुलिस के वाहनों के लिए किया जाना चाहिए. इनके अतिरिक्त सेना तथा अन्य आपातकालीन सेवाओं के वाहनों को भी नीली बत्ती लगाने की इजाज़त होगी.

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Leave a Reply

Your email address will not be published.