Input your search keywords and press Enter.

बड़े व्यवसायी के पुत्र का हुआ अपहरण, जानिए पूरा मामला

संजीव मिश्रा, भागलपुर; एक बार फिर से भागलपुर जिले में किडनेपिंग का दौर शुरू हो गया है भागलपुर के तिलकामांझी की यह घटना है. तिलकामांझी चौक से किराना व्यवसायी नवीन साह के पुत्र कृष्ण कुमार (18) अपहरण उसके साथियों ने ही कर लिया. अपहरण का आरोप उसने कटहलबाड़ी के रहने वाले अपने साथी करण नाथ और शुभम कुमार पर लगाया है.

करण मारवाड़ी कॉलेज में ग्यारहवीं का छात्र है. इसके पहले कृष्ण को उसके साथियों ने बहला फुसलाकर घूमने का बहाना कर कलन बाइक पर बैठा लिया और करीब दो ढाइ घंटे बाइक पर चलने के बाद वे लोग एक जगह रूके. जब उसने अपने साथियों से पूछा कि कब तक घर जाना है तो उन लोगों ने कुछ नहीं बताया. कृष्ण ने बताया कि शाम होने के बाद जब वह घर जाने की बात करने लगा तो उन लोगों ने करीब 15 मिनट तक चलने के बाद एक झोपड़ी के पास पहुंचा, झोपड़ी में उनके साथियों ने दो लोगों से बात की उसके बाद वे लोग बाइक लेकर निकल गए.

उन दोनों ने कहा कि वे लोग थोड़ी देर में पहुंच रहे हैं. इसके बाद कई घंटे बीत जाने के बाद भी वे लोग नहीं पहुंचे, वहां मौजूद कुछ युवकों से उसने अपने साथियों के बारे में पूछा तो उसके साथ उन लोगों ने मारपीट शुरू कर दी. इसके बाद उसके बैग को चेक किया और मोबाइल छीन कर बंद कर दिया. उसके पास रखे कुछ रूपये भी छीन लिए. मारपीट करते ही उनके गलत मंशा के बारे में कृष्ण को पता चला. उसने मारपीट का विरोध किया तो चार पांच लोगों ने फिर उसके साथ बुरी तरह मारपीट किया.

Loading...

सभी ने मिलकर उसका हाथ बांध दिया और मुंह पर कपड़ा लपेट दिया. इसके बाद सभी वहां से निकल गए. देर रात कुछ लड़के दोबारा वहां पहुंचे और उसका मुंह खोला. उनसे जब उसने अपने दोस्तों के बारे में पूछा तो कहा गया कि उसके दोस्तों ने उसे धोखा दिया है. उसका अपहरण फिरौती के लिए कर लिया गया है. फिरौती देने पर ही उसे छोड़ा जाएगा. मगर सुबह किसी तरह वह अपहरणकर्ताओं को चकमा देकर वहां से भाग निकला.

किसी तरह वह एक झोपड़ी के पास पहुंच जगह की जानकारी मांगी तो उसे बताया गया कि वह गोगरी जमालपुर के झौवा बहियार में है. इसके बाद उसने किसी तरह स्थानीय पुलिस से संपर्क कर कृष्ण के पिता से संपर्क किया. तिलकामांझी पुलिस चौकी में कृष्ण के पिता ने बेटे की गुमसुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. बेटे की खबर मिलते ही नवीन अपने बेटे को लाने निकल गए.

वहां से वे अपने बेटे को लेकर लौटे और तिलकामांझी थाने मुकदमा दर्ज कराने पहुंचे. समाचार लिखे जानेतक मामला दर्ज नहीं हुआ है, पिता ने फिरौती के लिए अपहरण की बात कही है और वे थाने में जमे हुए हैं ज्ञात हो कि पैसे या फिरौती के मकसद से ये हरकत किया गया था, क्योकि कृष्ण के पिता बड़े व्यवसायी हैं. दुशरी तरफ कृष्ण के दोस्त को जैसे ही जानकारी हुई है वो भाग खड़े हुए हैं.

यह भी पढ़ें:
टीनएज गर्ल को किस तरह के लड़के होते है पसंद, क्लिक कर पढ़े पूरी खबर

मनचलों की हरकतों से विद्यालय के शिक्षण कार्य हुआ बाधित

आगामी चुनाव के लिए अभी से कमर कस रही है जदयू…..

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.