Input your search keywords and press Enter.

धन्य है सुशासन बाबू का शिक्षा विभाग, BSEB ने प्रवेश पत्र में नाम ही नहीं बदला बल्कि लड़का को बना दिया….

BSEB
BSEB

file photo


न्यूज़ डेस्क: बिहार में शिक्षा के नाम पर राजनीति तो बहुत होती है. सरकार दावा करती है कि सबकुछ पत्री पर है लेकिन ऐसा लगता नहीं है कि इतने दावों के वाबजूद शिक्षा विभाग में कोई ज्यादा बदलाव नजर आता है. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की एक गड़बड़ी ने एक छात्र को परेशानी में दाल रखा है.

दरअसल संजीव कुमार नाम के एक छात्र ने सर्वनारायण सिंह रामकुमार सिंह महाविद्यालय ने फार्म भरा लेकिन उसका प्रवेश पत्र बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने छात्रा काजल सिंह के नाम से जारी कर दिया है. संजीव कुमार ने पंजीयन संख्या 61013-R-1063\2014 पर परीक्षा फॉर्म भरा. जिसके बाद बोर्ड द्वारा आयोजित प्रायोगिक परीक्षा का प्रवेश पत्र भी मिला. जिसके बाद उसने प्रवेश पत्र के आधार पर एमएलटी कॉलेज केंद्र पर क्रमांक 18010669 पर भौतिकी और रसायन शास्त्र विषय की प्रायोगिक परीक्षा 11 जनवरी से 15 जनवरी तथा 16 से 21 जनवरी तक भी दी थी. लेकिन जब वार्षिक परीक्षा का प्रवेश पत्र निकाला तो देख कर दंग रह गया.


sanjeev admidcard

संजीव कुमार के प्रवेश पत्र में पंजीयन संख्या व क्रमांक को छोड़ दिया जाए तो बाकि सब कुछ काजल सिंह के नाम से था. इस बात की जानकारी उसने महाविद्यालय को दिया है. एक ही क्रमांक व पंजीयन दो प्रवेश पत्र जारी होने के बाद शिक्षा विभाग के ऊपर फिर से सवाल बड़ा खड़ा हो गया है. महाविद्यालय ने इसकी जानकारी इंटरनेट के माध्यम से लेने की कोशिश की लेकिन पूर्ववर्ती छात्र होने के कारण वह नहीं हो पाया. अब दो फरवरी को संजीव को पंजीयन व अन्य साक्ष्य के साथ आने व काजल सिंह की जानकारी लेने की बात कही गयी है. जिससे कुछ स्पष्ट हो सकता है.

Loading...

kajal singh

चूकी यह प्रवेश पत्र बोर्ड के तरफ से जारी किया गया है ऐसे में कॉलेज प्रशासन कुछ अधिक करने में असमर्थ है. इस मामले में बोर्ड ही प्रवेश पत्र को सुधार कर सकता है और असली छात्र को जारी कर सकता है. अन्यथा संजीव या काजल दोनों को परीक्षा में शामिल होने में परेशानी हो सकती है. लोगों का आशंका है कि कहीं इसमें शिक्षा माफिया का हाथ तो नहीं है. लोगों का मानना है कि गलत नाम, पिता व माता के नाम या फोटो, प्रवेश पत्र बनाने वालों की भूल से बदल सकता है. लेकिन पूरा प्रवेश पत्र ही बदल जाये, दाल में जरुर कुछ काला है. हालांकि जांच के बाद ही पुरा मामला स्पष्ट हो सकता है.

वार्षिक परीक्षा में शामिल होने वाली प्रवेश पत्र में संजीव का नाम काजल सिंह, पिता का नाम कौशल कुमार सिंह व माता का नाम पुष्पा देवी अंकित है. जबकि वास्तिवकता यह है कि संजीव सुभाष पासवान व उमादा देवी का पुत्र है. साथ ही उसके आधार नंबर 755445351567 की जगह 649261403617 है. गौर करने वाली बात है कि पहले जारी प्रवेश पत्र में संजीव के फोटो पर प्रधानाचार्य का अभिप्रमाणित किया हुआ है जबकि काजल का फोटो स्वअभिप्रमाणित है. परीक्षा केंद्र मनोहर हाई स्कूल है जहाँ भौतिकी की परीक्षा आठ फरवरी को, दस फरवरी को रसायन शास्त्र, तेरह फरवरी को भाषा, 14 फरवरी को नन राष्ट्र भाषा व अंग्रेजी विषय एवं 15 फरवरी को गणित विषय की परीक्षा होगी. इससे पहले भी कई मामले ऐसे सामने आ चुके हैं यहाँ तक कि बिहार एसएससी में प्रवेश पत्र पर भोजपुरी फिल्म अभिनेत्री मोनालिसा का टॉपलेस फोटो वाला जारी किया जा चुका है इसी तरह का एक मामला मिथिला यूनिवर्सिटी का भी आ चुका है.


यह भी पढ़ें:
कुशवाहा के चाणक्य ने कहा JDU में मचेगी भगदड़, NDA में बने रहने को लेकर दिया बड़ा बयान…..

आंगनबाड़ी सेविका के साथ गुलछर्रे उड़ाते पकडे गए भाजपा नेता की लोगों ने की कुटाई, फिर….

भड़के तेज प्रताप ने पीएम मोदी से पूछा बड़ा सवाल, कहा साबित हो गया है BJP भारत जलाओ पार्टी हो गयी है….

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.