Input your search keywords and press Enter.

मुख्यमंत्री नितिश कुमार ने पुरातात्विक खुदाई का किया शुभारंभ

एस0 के गांधी,लखीसराय : शनिवार को जिले की ऐतिहासिक लाली पहाड़ी पर पुरातात्विक अवशेष खुदाई का शिलान्यास कार्यक्रम को ले मुख्यमंत्री नितिश कुमार दोपहर 12. 40 बजे हेलिकॉप्टर से अपनी खास दौरे पर लखीसराय जिला मुख्यालय स्थित पहाड़ी पर पहुंचे. हेलिकॉप्टर से उतरते ही उन्होंने पहाड़ी का भ्रमण कर इसकी पुरातात्विक खुदाई की विधिवत् शीलापट्ट लोकार्पित कर शुभारंभ किया.


इस दौरान सीएम आगमन के मद्देनजर जिला प्रशासन की ओर से सुरक्षा के चाक-चौबंद प्रशासनिक तैयारियां देखी गई. इससे पूर्व शुक्रवार की संध्या को ही जिला मुख्यालय परिसदन व अन्य स्थानों में सीएम कारकेट, स्पेशल सुरक्षा टीम, स्काट वाहन व सीएमओ प्रशासनिक दल भी लखीसराय पहुंचकर सुरक्षा की कमान अपने हाथों में ले लिया था. वहीँ प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री आगमन को लेकर लाली पहाड़ी को पूर्णत: सुरक्षा घेरे में ले लिया गया था.

लाली पहाड़ी एवं इसकी चारों ओर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए थे. कुल मिला कर समारोह स्थल को पूरी तरह पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया था. इसके अलावे कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद, पुरातत्व निदेशक अतुल कुमार वर्मा, बिहार विरासत विकास समिति के कार्यपालक निदेशक विजय कुमार चौधरी, भारतीय पुरातात्विक टीम प्रमुख, प्रो0अनिल कुमार सिंह एवं अन्य लोग मुख्यमंत्री को लखीसराय की पुरातात्विक प्रदर्शनी से अवगत कराते देखे गये. प्रदर्शनी अवलोकन के बाद बिना मीडिया से रु-व-रु हुए मुख्यमंत्री हेलिकॉप्टर से अपने गंतव्य की ओर रवाना हो गये. इस बीच प्रमंडलीय आयुक्त राजेश कुमार, डीआईजी विकास वैभव की देख रेख में डीएम अमित कुमार, एसपी अरविंद ठाकुर, एसडीएम मुरली प्रसाद सिंह, एसडीपीओ पंकज कुमार के अलावे सम्बद्ध तमाम अधिकारी गण भी कार्य क्रम की सफलता के लिए एडी-चोटी एक करते पाए गये.

Loading...


इस दौरान कार्यक्रम स्थल लाली पहाड़ी के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के कडे इंतजाम देखे गए. सड़क से पहाड़ तक लगभग दर्जनों स्थानों पर दंडाधिकारी एवं पुलिस पदाधिकारियों के साथ भारी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया था. मुख्यमंत्री के साथ मंत्री राजीव रंजन सिंह ललन, विजय कुमार सिन्हा, श्रवण कुमार, कृष्ण कुमार त्रृषि एवं सासंद वीणा देवी एवं विद्यायक प्रह्लाद यादव के अलावे कई गणमान्य लोग मौजूद थे. इसके पूर्व सीएम के पहुंचते ही पहाड़ी के उपर ही उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. बताते चलें कि आज से बिहार विरासत बचाओ समिति और विश्व भारती विश्व विद्यालय शांति निकेतन के द्वारा खुदाई कार्य प्रारंभ किया जाना था. जिसकी शुरूआत करने के लिए सीएम लखीसराय आए थे. इसी के साथ लाली पहाड़ी के अंदर दफन पाल कालीन और बौद्ध अवशेषों को निकाला जाऐगा. लखीसराय वार्ड नंबर 33 स्थित लाली पहाड़ी के गर्भ में छिपा रहस्य यह बता रहा है कि भगवान बुद्ध तीन वर्षों तक यहां आकर रुके थे. बोध गया, राजगीर से लखीसराय को जोड़कर बौद्ध सर्किट बनाए जाने से यह जिला भी अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र पर आ जाऐगा.विदित हो इस कार्यक्रम से आम लोगों को दूर रखा गया था. जिसके कारण लोग मायूसी हो गए थे.


इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.