Input your search keywords and press Enter.

अररिया में शुरू हुआ सर्कस, जानवरों की कमी से नही जुट रही भीड़…!

circus

circus


शिवम कुमार: अररिया में बच्चो के लिए मनोरंजन के लिए कोई व्यवस्था नहीं है. शहर में न तो बच्चो के लिए पार्क है ना ही मनोरंज का अन्य साधन. अररिया में एक पार्क है तो उसमे बच्चो के खेलने का सामान नहीं है. इन दिनों स्कूलो में छुटिया चल रही है. छुट्टी में बच्चे जाए तो कहा जाए. इन दिनों बच्चो का मनोरंजन सर्कस कर रहा है.
Loading...

सर्कस शब्द सुनते ही आदमी के दिमाग में जानवर के करतब को याद करता है. कुछ लोग सर्कस सुनते हीं अपने ज़माने में खो से जाते है. इनदिनों अररिया में सर्कस चल रहा है लेकिन जानवर ना होने से भीड़ जुटाने में सर्कस मालिक के पसीने छूट रहे है. सर्कस के मनेजर हसनैन से बात की तो कहा कि पहले जैसा अब सर्कस नहीं रहा. आज सर्कस को लोग भूल रहे है सर्कस विलुप्त हो रहा है. आज की पीढ़ी सर्कस को भूल रही है. आज आमदनी के आभाव में कई सर्कस बंद हो गया. जो चल भी रहा है तो घाटे में. हमलोग सर्कस चला रहे है कि आज कि पीढ़ी सर्कस को भूल ना पाए. आज सर्कस में केवल कलाकार के कला के द्वारा मनोरंजन रह गया है.

डेली बिहार न्यूज़ का ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें: DBN News APP


इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.