Input your search keywords and press Enter.

बिहारियों का DNA पीएम के कूड़ेदान में गया

dna-sampal

नई दिल्ली.न्यूज़ डेस्क.
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा भेजे गए लाखों डीएनए सैंपलों को पीएम ऑफिस के कूड़ाघर में नष्ट कर दिया जाएगा. पीएमओ अधिकारियों के अनुसार अगर जांच करने को कहा गया तो इतने सैंपलों की जांच करने में 20 साल लग जाएंगे.

दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के अनुसार हर दिन 10 से 12 हजार सैंपल्स के पार्सल डाक घरों के जरिये पीएमओ पहुंच रहे हैं. इन पार्सलों के ऊपर नमूने भेजने वाले का नाम, पता और उसका डीएनए टेस्ट कर नतीजे बताने का अनुरोध लिखा गया है. पीएमओ के अफसरों के मुताबिक तीन दिन पहले 43 बैग पीएमओ के पते पर पहुंचे जिनमे हर एक बैग में एक हजार सैंपल के लिफाफे थे. प्रधानमंत्री का घर, 7 रेसकोर्स रोड और दफ्तर-पीएमओ, दोनों जगह पार्सल के ढेर लगे हैं. इनकी वजह से डाक विभाग और पीएमओ स्टाफ का ड्यूटी टाइम बढ़ाना पड़ गया है.

Loading...

उधर पीएमओ गाइडलाइन के मुताबिक बाल और नाखून भेजना प्रधानमंत्री के अपमान माना जा सकता है, लेकिन चूँकि यहाँ मामला राजनीतिक है इसलिए पीएमओ की ओर से मौखिक निर्देश है कि डीएनए सैंपल्स भेजने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की जाए. पीएमओ अधिकारीयों के अनुसार बिहार से आए इन डीएनए सैंपलों को ऑफिस के कूड़ाघर में नष्ट किया जाएगा.

ज्ञात हो कि बिहार में एक रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ‘राजनीतिक डीएनए’ पर सवाल उठाए थे. इसके बाद
नीतीश ने इसे बिहारी स्वाभिमान से जोड़ मुद्दा बना दिया और जगह-जगह बाल, नाखून के सैंपल्स इकट्ठे कर डीएनए टेस्ट के लिए प्रधानमंत्री को भिजवा दिया.

(based on a bhaskar.com story,with photo credit)

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़ :”]

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.