Input your search keywords and press Enter.

तीन महीनों में बिहार के इन सभी कॉलेजों की मान्यता हो सकती हैं रद्द..

eduction minister

 eduction minister


न्यूज़ डेस्क: उच्च शिक्षा निदेशालय की समीक्षात्मक बैठक के बाद शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने राज्य के सभी विश्वविधालयों से एफिलिएटेड कॉलेजों को तीन महीने का वक्त दिया है. जिसमे राज्य के सभी कॉलेज इन तीन महीनों के अंदर अपनी कमियां दूर कर लेंगी, नहीं तो उनकी मान्यता रद्द कर दी जाएगी. उनका मानना हैं कि कॉलेजों का एफलियेशन अगर अचानक रद्द कर दिया जायेगा तो वहां पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को परेशानी होगी. इसी के मद्दे नज़र सभी कॉलेज को तीन माह का समय दे कर उनकी तमाम कमियों को दूर करने का प्रयास किया जायेगा.

कॉलेजों के लिए शहर में पांच एकड़ की जगह दो एकड़ और ग्रामीण क्षेत्रों में 10 एकड़ की जगह पांच एकड़ जमीन करने के प्रस्ताव पर भी चर्चा की गयी. साथ ही उन्होंने कहा की सभी विश्वविधालयों व कॉलेजों में दूरस्थ शिक्षा का सेंटर खोलने और इसके लिए नालंदा खुला विवि व मौलाना मजहरूल हक अरबी-फारसी विवि से इसमें सहयोग लेने का भी निर्देश दिया.

Loading...

इसके साथ ही सभी कॉलेज को नेक की आवेदन करने को कहा. नेक की जानकारी देते हुए बताये की एक साल पहले 28 संस्थान को नेक से मान्यता मिली थी, लेकिन अब यह बढ़ कर 92 हो गया हैं. मंत्री ने तीनों नये विश्वविद्यालयों पाटलिपुत्र विवि, पूर्णिया विवि और मुंगेर विवि को खोलने की प्रक्रिया में तेजी लाने का भी निर्देश दिया. उन्होंने बताया कि राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग के लिए हिंदी ग्रंथ अकादमी के नवनिर्मित भवन में जगह दी जा रही है.

इसके अलावे स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना को जन जन तक पहुँचने के लिए राज्य के प्रत्येक विवि मुख्यालय व कॉलेजों में फैसिलिटेशन सेंटर या हेल्प सेंटर खोलने का भी आदेश दिया गया हैं.

[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.