Input your search keywords and press Enter.

पटना की लड़कियों ने CBSE 12वीं में मारी बाजी

cbse board girls


मधुरेश/न्यूज़ डेस्क. सीबीएसई ने बारहवीं का परिणाम घोषित कर दिया है. बिहार में पटना रिजन में लड़कियों ने बाजी मारी है. पटना में 74.90 प्रतिशत छात्रों ने सफलता पाई है. जिसमें 70.8 प्रतिशत छात्र और 82.2 प्रतिशत छात्राएं है. सीबीएसई बोर्ड में आशुतोष मिश्रा ने साइंस में 97.2 प्रतिशत के साथ टॉप किया है. वहीं कॉमर्स में कहलगांव के पीयूष अग्रवाल 97.2 प्रतिशत के साथ टॉप किया है. पटना के ही सेंट माइकल हाइस्कूल की छात्रा एरिस आफताब ने साइंस स्ट्रीम में 96.8 फीसद अंकों के साथ दूसरा स्थान प्राप्त किया है.
cbse bihar topper 2016
मोतिहारी की बात करें तो यहाँ जवाहर नवोदय विद्यालय पिपराकोठी के छात्र विपुल कुमार ने जिले के पैमाने पर टॉप स्थान प्राप्त किया है. विपुल को कुल 463 यानि 94.4 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए हैं. उसे हिंदी में 98, रसायन विज्ञान में 96, जीव विज्ञान में 96, अंग्रेजी में 94 तथा भौतिकी में कुल 88 अंक मिले हैं. जिला टॉपर बनने वाले इस होनहार ने अपनी सफलता का श्रेय अपने शिक्षक पिता अभय कुमार, माता सुलोचना देवी, भाई अतुल, छोटी बहन सुरभी एवं विद्यालय के शिक्षकों को दिया है.
vipul cbse

विपुल को मिठाई खिलाते उसके मम्मी-पापा


डेली बिहार न्यूज से बात करते हुए विपुल ने बताया कि एक सफल डॉक्टर बन कर पीड़ित मानवता की सेवा करना उसका मुख्य लक्ष्य है. वह कहता है कि डॉक्टर बनने का सपना वह बचपन से संजोये हुए है. विपुल के पिता जवाहर नवोदय विद्यालय में जीव विज्ञान के शिक्षक हैं, जिन्हें वह अपना प्रेरणा स्रोत मानता है.

Loading...

बेटे की सफलता से खुश विपुल की माता सुलोचना देवी कहती हैं कि अपने कठिन परिश्रम के बदौलत उनके पुत्र ने यह मुकाम हासिल किया है. छोटी बहन सुरभी ने भाई की सफलता पर कहा कि इससे मुझे प्रेरणा मिली है. नवोदय विद्यालय के प्रभारीे प्राचार्य उमेश तिवारी एवं मोतिहारी के विधायक प्रमोद कुमार ने जिले में टॉप स्थान लाने पर विपुल को बधाई दी है.

इसके अलावा मोतिहारी के जीवन पब्लिक स्कूल में विज्ञान व वाणिज्य संकाय में कुल 120 छात्र सफल हुए है. कंचन लता ने स्कूल जीव विज्ञान में 92.8 प्रतिशत अंकों के साथ पहला स्थान प्राप्त किया है. वहीं जीव विज्ञान में संस्कृति शिवानी को 87.6 प्रतिशत अंक प्राप्त हुआ है.
sanskriti cbse
इस बार बिहार बोर्ड और सीबीएसई बोर्ड की तुलना की जाए तो बिहार बोर्ड को आगे कहा जा सकता है. आपको बता दें कि इस बार बिहार बोर्ड में 11 लाख 57 हजार परीक्षार्थीओं ने परीक्षा दिया. वहीं सीबीएसई के पटना (बिहार और झारखंड) जोन में 72000 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे. बिहार बोर्ड में सिर्फ पटना से 60 हजार से अधिक विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे.

दोनों बोर्ड के परिणामों की तुलना की जाए तो सीबीएसई के मुकाबले बिहार बोर्ड का रिजल्ट ज्यादा अच्छा रहा है. पटना जोन में सीबीएसई के तीनों स्ट्रीम में सफल छात्रों का प्रतिशत 74.9 रहा, जबकि बिहार बोर्ड के साइंस के छात्रों की सफलता का प्रतिशत 69 रहा. वहीं कॉमर्स में 80 प्रतिशत छात्रों ने सफलता हासिल की. अभी आर्ट्स का रिजल्ट आना बाकि है.

बिहार में संसाधनो का अभाव है, इसके बावजूद भी बिहार के छात्रों का रिजल्ट अच्छा रहा. आपको बता दें कि इस बार कदाचार रोकने के लिए बिहार में काफी कड़ाई बरती गई थी. किसी भी छात्र को नकल नही करने दिया गया था. इस मामले पर बिहार बोर्ड के अध्यक्ष प्रो. लालकेश्वर प्रसाद ने कहा कि बिहार बोर्ड के बच्चे मेधावी होते हैं.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:”]

Leave a Reply

Your email address will not be published.