Input your search keywords and press Enter.

बुढि़या नदी का जलस्तर बढ़ने से, ग्रामीणों का प्रखंड मुख्यालय से टूटा संपर्क…

WhatsApp Image 2017-08-06 at 1.33.09 PM

WhatsApp Image 2017-08-06 at 1.33.09 PM

आनंद राज सिंह, गया: शनिवार की सुबह से हो रही मूसलाधार बारिश के कारण बुढि़या नदी का जलस्तर बढ़ गया है. नदी का जलस गया. शनिवार की सुबह से हो रही मूसलाधार बारिश के कारण बुढि़या नदी का जलस्तर बढ़ गया है. नदी का जलस्तर बढ़ने से चार गावों का संपर्क प्रखंड व अनुमंडल मुख्यालय से पूरी तरह टूट चुका है.

शेरघाटी से घाघर होते हुए झारखंड को जोड़ने वाली इस पथ से हजारों ग्रामीणों का आवागमन करते हैं. अचानक बुढि़या नदी के जलस्तर में वृद्धि से आवागमन पूर्णत: अवरुद्ध हो गया है. घाघर निवासी शभू सिंह, अरूण कुमार आदि ने बताया कि फिलहाल प्रसव और गंभीर बीमार मरीजों को सबसे ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ रही है. ग्रामीणों ने बताया कि प्रत्येक वर्ष नदी में पानी आने के बाद तत्काल इलाज के अभाव में एक दो जानें जाती है. घाघर के प्रदीप शर्मा अपनी पत्‍‌नी की गौना करा पहली बार गांव आ रहे थे, लेकिन जलस्तर अधिक होने के कारण उन्हें उस पार ही रुकना पड़ा. फिर फोन कर नदी पार कराने वाले को बुलाना पड़ा.

Loading...

तब चार-पांच जन मिलकर सामान लेकर नईनवेली बहू को नदी पार करा पाए. नदी तट पर घर बनाए शेखपुरा के उदय यादव बताते हैं कि यह कोई नई समस्या नहीं है. प्रति वर्ष इस प्रकार की समस्याएं हम ग्रामवासियों को झेलनी पड़ रही है. स्थानीय विधायक विनोद प्रसाद यादव से आस बंधी थी, लेकिन वे भी अब तक निराश ही किए हैं. ग्रामीण बताते हैं कि नदी पर जबतक पुल का निर्माण नहीं होता तबतक इस क्षेत्र के लोगों का प्रखंड व अनुमंडल मुख्यालय से सम्पर्क टूटा ही रहेगा. ग्रामीणों ने यह भी कहा कि कई अच्छे परिवारों का रिश्ता आया, लेकिन सिर्फ नदी पर पुल नहीं होने से रिश्ता पक्का नहीं हो सका.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.

[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.