Input your search keywords and press Enter.

बिहार में जारी है चापाकल मरम्मति घोटाला, डेली बिहार न्यूज़ ने किया एक्सपोज

handpump-1

handpump-1


शेखपुरा (3/6/16) जिले के पीएचईडी विभाग में चापाकल मरम्मति के नाम पर इन दिनों सरकारी राशि की लूट जारी है. चपाकल की मरम्मति किये बगैर ही विभाग अपने मरम्मति पंजी में दर्ज कर लेता है कि चापाकल की मरम्मति हो गयी. ऐसा मामला तब सामने आया जब नगर क्षेत्र के वार्ड नं 01 के सामजिक कार्यकर्ता सुदामा ठाकुर ने अपने मोहल्ले में खराब पड़े चापाकल की मरम्मति के लिए पीएचइडी को आवेदन दिया और उस खराब पड़े चापाकल की मरम्मति किये बगैर ही पंजी में विभाग द्वारा दर्शा दी गई की मरम्मति हो गयी.

सुदामा ने बताया कि वे मोहल्ले के खराब पड़े चापाकल की मरम्मति के लिए पीएचईडी के कार्यपालक अभियन्ता को आवेदन दिया था और उन्होंने इसकी मंजूरी भी दे दी थी. विभागीय कर्मी ने उन्हें आश्वासन दिया था कि उनके खराब चपाकल को एक दो दिन के अंदर मरम्मति कर दी जायेगी . वे विभाग के इस आश्वासन के बाद अपना घर लौट आये.

Loading...

सुदामा ने बताया कि जब काफी दिन गुजर गए और चापाकल की मरम्मति करने विभाग से कोई कर्मचारी नहीं आया तो वे पुनः पीएचईडी के कार्यपालक से फोन से सम्पर्क की तो कार्यपालक ने उन्हें बताया कि उनके चापाकल की मरम्मति कर दी गयी है. ऐसा उनके विभागीय पंजी बतला रहा है. जबकि उनके मोहल्ले के चापाकल को मरम्मत नहीं किया गया था.

इस पर सुदाम आक्रोशित होकर डीएम से इस मामले की शिकायत करने की बात कह डाली. उन्होंने ने बताया कि थोड़े ही समय के बाद चापाकल मरम्मति करने के लिए उनके मोहल्ले में विभागीय दल पहुंचा और खराब पड़े चापाकल की मरम्मत की. उन्होंने हैरत जाहिर करते हुए कहा कि बिना चापाकल की मरम्मति किये बगैर कैसे विभागीय लोग पंजी पर चढ़ा दिया करते हैं कि उनके चापाकल की मरम्मत हो गयी है.

इस तरह से देखा जाय तो यह एक नमूना मात्र है. चापाकल मरम्मति के नाम पर पीएचईडी विभाग सरकार को चुना लगा रहा है. वही पीएचईडी के कार्यपालक अभियन्ता से संपर्क नही हो पाने से इस मामले में उनकी कोई प्रतिक्रिया नही मिल पायी है. ललन कुमार.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]