Input your search keywords and press Enter.

बिजली आपूर्ति को लेकर भड़का ग्रामीणों का गुस्सा, घंटों किया सड़क को जाम…


शेखपुरा.ललन कुमार(10जुलाई)-बिजली विभाग द्वारा अनियमित बिजली आपूर्ति किये जाने को लेकर भड़के ग्रामीणों ने शेखपुरा-लखीसराय मार्ग में पड़ने वाले सिरारी के पास सड़क मार्ग को कर जाम कर दिया.सड़क जाम की समस्या से यातायात घण्टों प्रभावित रहा.यात्री वाहन से लेकर मालवाहक वाहन सड़कों पे कतार में सजकर घण्टों खड़े रहे.मरीजों के वाहन एम्बुलेंस भी जाम फंसे रहे.अंत मे एम्बुलेंस को मार्ग बदल कर जाना पड़ा.

मौके पर सिरारी ओपी पुलिस प्रभारी पहुंचकर सड़क जाम की समस्या को खत्म करने का भरपूर प्रयास किया लेकिन ग्रामीणों के आक्रोश के सामने उनका नहीं चल सका।ग्रामीण बिजली विभाग के कार्यपालक पदाधिकारी और एसडीओ को घटना स्थल पर पहुंचने को लेकर अड़े रहे।बिजली को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों का नेतृत्व कर रहे जिला परिषद के उपाध्यक्ष रंजीत सिंह उर्फ बुद्धन भाई ने मौके पर बिजली विभाग पर आरोप लगाते हुए कहा कि बिजली विभाग महसार पंचायत में नियमित बिजली की आपूर्ति नहीं करता है।जरा सा बूंदाबांदी हुआ नहीं कि बिजली पचना फीडर की गुल कर दी जाती है.

Loading...

हल्की से तेज हवा चली नही कि बिजली गुल कर दी जाती है.मतलब पिछले छः महीने से अनियमित बिजली को लेकर ग्रामीण परेशान है और शिकायत करने जब ग्रामीण बिजली विभाग के पदाधिकारी के पास जाते हैं  तो पदाधिकारी कुछ सुनने को तैयार नहीं रहते है.मजबूरन ग्रामीणों को सड़क पर बिजली को लेकर उतरना पड़ा. बुद्धन ने कहा कि जहां भी सड़क पर आंदोलन या जाम होती है इसके लिये जनता नहीं पदाधिकारी जिम्मेवार होते हैं.जनता की समस्या को पदाधिकारी दूर ही कर देंगे तो सड़क पर आंदोलन या जाम ही क्यों होगा.

इसलिये वे मानते हैं कि पदाधिकारियों की कार्यशैली के चलते ही इस तरह की समस्या उतपन्न होती है. उन्होंने कहा कि सोचिये न बिजली कन्जयूमर आपको पैसा देता है तो उसे बिजली मिलनी चाहिए. बिल भेजकर केवल पैसा वसूल कीजिएगा. यह नहीं चलेगा।बिजली नहीं रहने के चलते पढ़ने वाले छात्रों को काफी परेशानी होती है. इसलिए वे बिजली के पदाधिकारी से मांग करते हैं कि बिजली विभाग जिले के पंचायतों में बिजली की नियमित आपूर्ति करते रहे.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.