Input your search keywords and press Enter.

लालू और राजद को नीतीश ने दिया जीवनदान….

lalu prasad yadav nitish kumar
lalu prasad yadav nitish kumar

file photo


न्यूज़ डेस्क: राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाला में साढ़े तीन साल की सजा का ऐलान होने पर बिहार की सियासत में ऊबाल आ गया है जनता दल यूनाईटेड और भारतीय जनता पार्टी के नेता लगातार हमला कर रहे हैं. जदयू प्रदेश प्रवक्ता निखिल मंडल ने राष्ट्रीय जनता के अध्यक्ष लालू प्रसाद पर कटाक्ष किया है.

निखिल मंडल ने कहा है कि आदरणीय लालू जी जब पहली बार 1997 में जेल गए उसके बाद 2000 में चुनाव लड़े तो सत्ता से बाहर हुए और पहली बार नीतीश कुमार जी मुख्यमंत्री बने. फिर कांग्रेस का साथ लेके राजद बड़ी मुश्किल से वापस सत्ता में आयी. उसके बाद फिर लालू जी 2005 में सत्ता से बाहर हुए. फिर उसके बाद लालू जी 2010 में 22 सीट पर सिमट गए. 2015 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी का साथ मिला लालू जी को और राजद को जीवन दान मिला. अब फिर लालू जी जेल में हैं. ये तो इतिहास खुद सबकुछ बतला रहा हैं पर फिर भी कुछ लोग सपने में जीना चाहते हैं तो उनको सपना मुबारक हो.


lalu-prasad-yadav nikhil manndal

file pic


गौरतलब है कि लालू प्रसाद ने जेल में जाने के बाद बिहारवासियों के नाम एक पत्र लिखा था जिसमें पीएम मोदी और सूबे के सीएम नीतीश कुमार ने जमकर हमला किया था. उन्होंने कहा था कि आप तो देख ही रहे हैं किस प्रकार देश का प्रधानमंत्री, राज्य का मुख्यमंत्री, केंद्र और राज्य की सरकारें, देश की तीन सबसे बड़ी एजेन्सीयाँ इनकम टैक्स, सीबीआई और ईडी, सरकार समर्थित अन्य संस्थान और कई प्रकार के ज़हरीले लोग हमारे पीछे लगे हैं. बच्चों को भी झूठ और फरेब की कहानियाँ बनाकर दुश्मनी निकाल रहे है. इन मनुवादियों ने सोचा इतना करने के बाद अब तो लालू खामोश हो जायेगा, समझौता कर लेगा लेकिन लालू बिहार की महान माटी का लाल है किसी अत्याचार के खिलाफ खामोश नहीं होने वाला. लालू किसी से डरकर नहीं डटकर लड़ाई लड़ता है. वह आँखों में आँख नहीं ज़रूरत पड़ने पर आँखो में ऊँगली डालकर भी बात करना जानता है. और ये कर पाने का बल और उर्जा आपकी ताकत, आपके संघर्ष और मेरे लिए आपके असीम स्नेह के कारण संभव हो पाता है. आप हैं तो आपका लालू है.

Loading...

साथ ही कहा था कि कितना कुछ खेल खेला है इन मनुवादियों नें CBI पीछे लगाई, मेरे परिवार को घसीटा गया, मुझे अरेस्ट करने के लिए आर्मी तक बुलावा भेजा. मेरे नादान बच्चों पर मुक़दमे कर उन्हें प्रताड़ित कर उनका मनोबल तोड़ने का कुचक्र रचा, देश की सभी जाँच एजेन्सीयों के छापे, चूल्हे से लेकर तबले तक को झाड़-पोंछकर खोजबीन की, पूछताछ की. चरित्रहनन करने के षढयंत्र रचे, सभी नज़दीकियों को प्रताड़ित किया, चोर दरवाज़े से घुसकर सत्ता से बेदखल किया. लेकिन परेशानियाँ और प्रताड़ना अपनी जगह आपके लालू के चेहरे पर शिकन नहीं आई. जानते हैं क्यों. क्योंकि जिसके पास करोड़ों ग़रीबों की बेपनाह मुहब्बत हो उसका कोई कुछ बिगाड़ नहीं सकता.


यह भी पढ़ें:
लालू के जेल जाने से पहले ही उनके दो सेवादार पहुंचे जेल, जाने पूरा मामला…

लालू यादव के जेल जाने पर जदयू ने राहुल से पूछा तीखा सवाल, कब जाएंगे….

उपेंद्र कुशवाहा ने लालू परिवार के साथ जताई सहानुभूति, कहा…

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.