Input your search keywords and press Enter.

मांझी के इन बड़े सवालों में फंस सकते हैं नीतीश, अपने ही फैसले पर पछता सकते हैं सीएम

jitan ram manjhi

j r manjhi


कुछ ही दिन पहले अपने इफ्तार पार्टी में नीतीश और लालू को शामिल करने वाले हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि इलाहबाद के रैली के बहाने बिहार के मुख्यमंत्री जदयू नेताओं व कार्यकर्ताओं को जी भरके शराब पीला रहें है. उन्होंने यह भी कहा कि नीतीश कुमार उत्तर प्रदेश में शराबबंदी रैली का आयोजन इसलिए करते हैं ताकि उनके नेताओं को शराब मिल सके.

उक्त बातें मांझी ने पटना में रविवार को आयोजित के संवाददाता सम्मेलन में कही. इस दौरान उन्होंने बिहार के सीएम के बारे में यह भी कहा घूम-घूम कर खुद को शराबबंदी के ब्रांड अंबेसडर के रूप में पेश करने नीतीश कुमार की पार्टी के लोग ही शराबबंदी रैलियों में शराब का मजा ले रहें हैं. मांझी का यह भी कहना है कि जदयू के नेता और कार्यकर्ता कितना शराबबंदी का समर्थन करते हैं यह नीतीश की इलाहाबाद की रैली के दौरान जगजाहिर हो गया है.

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष के मुताबिक नीतीश कुमार व उनकी पार्टी का यूपी में कोई राजनीतिक हैसियत नहीं है लेकीन फिर भी वो वहां घूम-घूम जनता को गुमराह करने में लगे हुए हैं. इसके अलावा मांझी नीतीश से मीडिया के माध्यम से यह पूछा कि शराबंबदी के बावजूद ईसाइयों को शराब बनाने और उसका सेवन करने का अधिकार कैसे दिया गया? साथ ही मांझी का बिहार के मुख्यमंत्री से यह भी सवाल है कि यदि शराब खराब है तो फिर बिहार में शराब बनाने और देश के अन्य राज्यों में बेचने का क्या औचित्य है?

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Loading...

<