Input your search keywords and press Enter.

खिलाड़ियों के साथ बिहार सरकार कर रही है सौतेला व्यवहार, पढ़े पुरी रिपोर्ट….

jaabir
jaabir

file photo


विकर्ण राज वर्मा: जमुई के रहने वाले जाबिर अंसारी का तीसरी बार राष्ट्रिय कराटे चैम्पियनशिप में चयन हुआ है लेकिन बिहार सरकार से सहयोग नहीं मिलाने के कारण लगता है उसका सपना सपना बनकर ही रह जाएगा. जमुई जिले झाझा स्थित तुम्बा पहाड़ में गरीब परिवार से समबन्ध रखने वाले जाबीर मोहम्मद इम्तियाज के पुत्र हैं. जाबीर का तीसरी बार चयन हुआ है जहां वो अपना जलवा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में जलवा दिखाता नजर आ सकता है.

लेकिन जुबैर का यह मात्र एक सपना बनकर ही कहीं न रह जाए. जाबिर ने डेली बिहार के साथ बातचीत में बताया कि उसे दिल्ली भाग लेने जाना है लेकिन बिहार सरकार के खेल मंत्रालय के तरफ से कोई सहायता नहीं मिलता है. दिल्ली आने जाने के साथ खाने-पीने और ठहरने का सारा खर्च खुद से ही वहां करना पड़ता है जो मेरे बस की बात नहीं है क्युकि मई एक बेहद ही गरीब परिवार से आता हुन दिल्ली जैसे मंहगे शहरों में सारा खर्च कैसे उठा पाऊंगा. प्रतिभा सम्पन्न जुबैर को इससे पहले भी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा है गोवा में राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए उन्हें बिहार राज्य खेल प्राधिकरण अध्यक्ष अरविन्द पांडे ने अपने निजी खर्च पर भेजा था.

Loading...

गौरतलब है कि झाझा के रहने वाले जाबिर ने बिहार कराटे चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर लगातार चौथी बार नेशनल प्रतियोगिता के लिए चयनित हुआ है. विदित हो की जाबीर नेशनल लेवल पर भी बिहार के लिए पदक जीत चूका है और अंतराष्ट्रीय स्टार तक आपना लोहा मनवा चूका है लेकिन नही तो उसे जिला प्रशासन द्वारा मदद मिल पाया है और नहीं बिहार सरकार से. जाबीर अन्तराष्ट्रीय स्तर तक अपनी उपस्थिति दर्ज करा चूका है लेकिन 11 से 13 मई तक आयोजित चैम्पियनशिप में जाकर खेलने के लिए उसके पास दिल्ली जाने से लेकर रहने का खर्च के पैसे नहीं है तथा ऐसे में बिहार सरकार के तरफ से कोई सुविधा भी नहीं उपलब्ध कराया जा रहा है.

[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published.