Input your search keywords and press Enter.

दहेजबंदी में मनाही के बावजूद लालू ने थमाया बंद लिफाफा, शुरू हुआ बवाल….


न्यूज़ डेस्क: कल उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी के बेटे उत्‍कर्ष की शादी हुई है जहां देश के दिग्गज नेता इस सादगी भरे शादी में पहुंचे. राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव सुशील मोदी के बेटे की शादी में वर-वधु को आशीर्वाद देने के लिए पहुंचे जहाँ डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया.

लालू यादव शादी में शिरकत कर नव-दंपत्ति को आशीर्वाद देने पहुंचे. लालू प्रसाद यादव शादी सम्पन्न होने के बाद वर-वधु को आशीर्वाद देने पहुंचे इस मौके पर वर-वधु ने लालू प्रसाद के पैर छूकर चरण स्पर्श किया. लालू यादव ने आशीर्वाद दिया और डिप्टी सीएम सुशील मोदी के साथ तस्वीर भी खिंचवाई. इस दौरान लालू प्रसाद यादव ने सुशील मोदी के लाख मनाही के बावजूद बेटे के हाथ में एक बंद लिफाफा शगुन के तौर पर थमा दिया. लाख मनाही के बावजूद दिया गया यह लिफाफा विवाद का विषय बन गया है. लालू के इस लिफाफे को लेकर बिहार के सियासी गलियारों में खूब चर्चा हो रही है. लिफाफे में क्या था इस बात का खुलासा नहीं हो सका है. गौरतलब है कि शादी के कार्ड पर किसी प्रकार का तोहफा देने की मनाही थी. लेकिन इसके बावजूद लालू प्रसाद यादव ने यह मास्टर स्ट्रोक खेल कर सबको चौंका दिया है. विदित हो कि शादी दहेज मुक्त और बिना तामझाम वाली थी जिसमें बैंड बाजा खाने-पीने की कोई व्यवस्था नहीं रखी गई थी.

Loading...

लालू यादव के इस बंद लिफाफे पर सियासत शुरू हो गया है. जदयू ने तंजा कसते हुए कहा कि वो तो मीडिया के डार्लिंग हैं और कैमरे में बने रहने के लिए कुछ ना कुछ उत्पात मचाते रहते हैं. जदयू प्रवक्ता संजय सिंह का कहना है कि लालू लाफ्टर चैनल के हीरो हैं और मीडिया में बने रहने के लिए ऐसा करते हैं उन्होंने ऐसी ही युक्ति लगाई अब तो लोग तलाशेंगे ही कि आखिर उस बंद लिफाफे में लालू ने क्या दिया है?

जबकि दुसरी तरफ प्रदेश भाजयुमों अध्यक्ष बांकीपुर विधायक नितीन नवीन का कहना है कि सुशील मोदी जी ने आमंत्रण पत्र पर साफ लिखा था कि कृपया कोई उपहार ना लाएं, लेकिन लालू जी को इससे क्या फर्क पड़ता है. लालू जी बस चर्चा में बने रहना चाहते हैं इसलिए कुछ अलग हटकर बोलना काम करना कार्यशैली में शामिल है. इसलिए उन्होंने नया शिगूफा छेड़ने के लिए एेसा किया है.


विरोधियों के हमले झेल रहे लालू यादव के बचाव में उतरे राजद नेता मृत्युंजय तिवारी का कहना है कि लालू जी अपनी सभ्यता संस्कृति को नहीं भूलते हैं उनका सीधा-सरल स्वभाव है, वो किसी की बात में नहीं आते, सुशील मोदी ने भी लालू जी की बेटियों की शादी में उपहार दिया था, एेसे में उन्होंने भी बस उस उपहार को वापस किया है. जो हंगामा कर रहे हैं उन्हें यह नहीं दिख रहा है कि बड़ा उपहार तो नहीं दिया.


यह भी पढ़ें:
एक दुसरे धुर-विरोधी लालू गिरिराज बैठे एक साथ, लालू ने लुट ली महफिल, तेजप्रताप की शादी पर दिया बड़ा बयान….

बिहार के लाल ने 19 विश्वकप के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में बनाई जगह, लगायेगा कोहली और धोनी की तरह चौके छक्के….

जब सारा पटना सो रहा था उस समय मनु महाराज कर रहे थे यह काम….

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.