Input your search keywords and press Enter.

कोसी की तबाही लाइव रिपोर्टिंग से देख दहल जायेंगे आप

kosi flood

kosi flood


रवि रौशन. सुपौल. कोसी सीमांचल में बाढ़ की तबाही जानने के लिए हमारे रिपोर्टर्स ने वहां से लाइव रिपोर्टिंग की और बताया कि किस तरह और क्यों कोसी से मची हैं भारी तबाही. मूल कारण हमारे पड़ोसी राष्ट्र नेपाल में भूटहा बाँध के टूटने से बाढ़ का खतरा बढ़ा. खतरे के निशान से अब ऊपर बहने के कारण एक ओर जहाँ पानी तेज करेंट और धार के साथ मिट्टी कटान कर गाँव के किसानों के खेतों को बर्बाद कर रही है, वही दूसरी ओर लगातार हो रही बारिश की वजह से भी फारबिसगंज और आस-पास के ग्रामीण इलाके में रमई. खवासपुर अमहरा खैरखा आदि गॉव में बाढ़ की स्थिति उत्प्पन हो गए है.

वहीं नेपाल के नरसिंह स्थित सुरसर बांध टूटने के कारण नरपतगंज प्रखण्ड के उत्तरी भाग के आधे दर्जन पंचायत में बाढ़ का पानी पसर गया है. लगातार जल स्तर में भारी बढ़ोतरी को लेकर क्षेत्र के लोग भयभीत हैं. ग्रामीण उंचे स्थानों पर शरण ले रहे हैं। ऐसे में कुछ प्राथमिक व मध्य विद्यालय ग्रामीणों का आशियाना बन रहा है. बाढ़ के चलते ऐसे स्कूलों में छुट्टी दे दी गई है.
Loading...

kosi flood
शनिवार की सुबह 6 बजे कोसी बराज से 2 लाख 10 हजार क्यूसेक जल निस्सरण के कारण से हुई जलवृद्धि भी बाढ के संकेत अभी से ही देने लगी है. हालांकि 22 जुलाई को कोसी बलतारा में 52 सेंटीमीटर व कुरसेला में 4 सेंटीमीटर नीचे थ. इसी प्रकार बागमती बेनीबाद में 14 सेंटीमीटर व महानंदा ढेंगराहाघाट में 119 सेंटीमीटर व झावा में 42 सेंटीमीटर खतरे के निशान से उपर चल रहा था.
kosi flood
इन क्षेत्रों में बारिश होने से ही कोसी, बागमती समेत महानंदा के जलस्तर में वृद्धि होने के साथ बिहार के सुपौल,मधुबनी, सहरसा, दरभंगा, खगड़िया, मधेपुरा, पूर्णिया, भागलपुर, कटिहार,किशनगंज, अररिया, सीतामढी, शिवहर, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर जिलों के बाढ से प्रभावित होने की संभावना प्रबल हो जाती है.




[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Leave a Reply

Your email address will not be published.