Input your search keywords and press Enter.

ऑस्ट्रेलिया में अवार्ड पाते ही सब कुछ छोड़ बिहार आये मनोज वाजपेयी, जाने क्या है मामला….

Manoj-Bajpai
Manoj-Bajpai

फाइल फोटो


देश के मायानगरी में बिहार का नाम रौशन करने वाले सुपरस्टार मनोज वाजपेयी को आज कौन नहीं जानता है उनकी शानदार अभिनय से तो सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी प्रभावित हैं. भले ही आज मनोज वाजपेयी बिहार से दूर रहते हों लेकिन बिहार की मिट्टी को आजतक वो नहीं भूले हैं इस मिट्टी की मधुरता उन्हें खिच ही लाती है.

मनोज वाजपेयी आजकल अपने पैतृक गांव पश्चिमी चंपारण जिला स्थित गौनाहा के बेलवा में आए हुए हैं. वैसे तो वो फिल्मों में अपने किरदार के अनुसार फ्रेंडशिप खूब निभाई है लेकिन अभी वो रियल लाइफ में दोस्ती निभा रहे हैं. उनके बचपन के दोस्त ज्ञानदेव मणि त्रिपाठी सारण स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से बतौर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं जिसको वो प्रचार करने में जुटे हुए है. उनका कहना है कि ‘ज्ञानदेव मेरे लंगोटिया यार हैं अब चुनाव लड़ रहे हैं, अपने मित्र के लिए क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में जाकर मतदाताओं से वोट देने का अपील करुंगा.

Loading...

मनोज वाजपेयी ऑस्ट्रेलिया में एरिया पैसेफिक स्केन एकेडमी अवॉर्ड को प्राप्त करने के बाद सीधे अपने घर बिहार की और प्रस्थान कर दिए. विदित हो कि पिछले साल उन्होंने अपने मित्र से चुनाव में मदद करने का आश्वासन दिया था और अपना वादा पूरा करने सीधे घर चले आये.

[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

One Comment

  • Anonymous says:

    देश के मायानगरी में बिहार का नाम रौशन करने वाले सुपरस्टार मनोज वाजपेयी को आज कौन नहीं जानता है उनकी शानदार अभिनय से तो सदी के महानायक अमिताभ बच्चन भी प्रभावित हैं. भले ही आज मनोज वाजपेयी बिहार से दूर रहते हों लेकिन बिहार की मिट्टी को आजतक वो नहीं भूले हैं इस मिट्टी की मधुरता उन्हें खिच ही लाती है.

    मनोज वाजपेयी आजकल अपने पैतृक गांव पश्चिमी चंपारण जिला स्थित गौनाहा के बेलवा में आए हुए हैं. वैसे तो वो फिल्मों में अपने किरदार के अनुसार फ्रेंडशिप खूब निभाई है लेकिन अभी वो रियल लाइफ में दोस्ती निभा रहे हैं. उनके बचपन के दोस्त ज्ञानदेव मणि त्रिपाठी सारण स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से बतौर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं जिसको वो प्रचार करने में जुटे हुए है. उनका कहना है कि ‘ज्ञानदेव मेरे लंगोटिया यार हैं अब चुनाव लड़ रहे हैं, अपने मित्र के लिए क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में जाकर मतदाताओं से वोट देने का अपील करुंगा.
    मनोज वाजपेयी ऑस्ट्रेलिया में एरिया पैसेफिक स्केन एकेडमी अवॉर्ड को प्राप्त करने के बाद सीधे अपने घर बिहार की और प्रस्थान कर दिए. विदित हो कि पिछले साल उन्होंने अपने मित्र से चुनाव में मदद करने का आश्वासन दिया था और अपना वादा पूरा करने सीधे घर चले आये.

Leave a Reply

Your email address will not be published.