Input your search keywords and press Enter.

शेखपुरा में जिला परिषद की हुई बैठक, गूंजी अधिकारियों के मनमानी का मुद्दा


ललन कुमार, शेखपुरा : जिला परिषद की बैठक में सरकार के अधिकारियों की मनमानी का मुद्दा काफी गंभीरता से उठा. साथ ही जिले के विभिन्न पहाड़ी भूखंडों में उत्खनन के दौरान नियमों की अनदेखी किये जाने पर भी मुद्दा उठा. इसके अलावे शिक्षा, बिजली, पेयजल, स्वास्थ्य समेत अन्य मुद्दों को लेकर भी गंभीरता से चर्चा की गई.

समाहरणालय परिसर स्थित डीआरडीए सभागार में जिप अध्यक्षा निर्मला कुमारी की अध्यक्षता में बैठक हुई. बैठक के दौरान जिप सदस्यों ने पड़ रही भीषण गर्मी को देखते हुए सभी सरकारी विद्यालयों में पंखा लगाये जाने की मांग की है. विद्यालयों के साथ साथ विभिन्न क्षेत्रों में खराब पड़े चापाकलों की शीघ्र मरम्मत किये जाने की मांग उठाई. बैठक के दौरान जिप उपाध्यक्ष रंजीत सिंह उर्फ़ बुद्धन भाई ने शेखपुरा बीडीओ सुनील कुमार चांद के विरुद्ध  कार्रवाई की मांग करते हुए एक बार फिर कहा कि अपने चेंबर में किसी भी परिस्थिति में एक सरकारी पदाधिकारी द्वारा टेबल पर पैर रख कर बैठा जाना किसी भी स्थिति में ठीक नहीं है और इस स्थिति में उनके विरुद्ध कार्रवाई होनी चाहिए.

Loading...

वहीँ एक अधिकारी द्वारा जिप अध्यक्ष को उपस्थित होने के लिए नोटिस भेजने की कार्यवाही की चर्चा करते हुए सदस्यों ने कहा कि अधिकारी को प्रोटोकॉल तक का ज्ञान नहीं होना काफी चिंता का विषय है. इसके अलावा महसार गांव में विगत दिनों शौचालय नहीं बनाए जाने को लेकर बिजली और पानी की व्यवस्था को बाधित किए जाने के मामले में भी टीम बना कर जांच किए जाने की मांग की गई.

मौके पर जिप उपाध्यक्ष ने कहा कि जिले में बड़ी-बड़ी निर्माण कंपनियों द्वारा पहाड़ों में उत्खनन तो कराया जा रहा है परंतु प्रशासनिक अधिकारियों की मिलीभगत से उत्खनन नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है इसके लिए आखिर कौन जिम्मेवार है. बैठक के दौरान डीडीसी निरंजन झा, डीईओ मो तकीउद्दीन, के अलावा विभिन्न विभागों के अधिकारी, जिप सदस्यों  में अध्यक्ष उपाध्यक्ष के अलावे अनीता देवी, रुदल पासवान, गीता देवी, अजय कुमार सुंदर साहनी समेत कई अन्य लोग मौजूद थे.

[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.