Input your search keywords and press Enter.

जानिए बिहार के किस यूनिवर्सिटी में आप इस प्रोग्राम के लिए नहीं ले सकेंगे दाखिला

admission

admission


न्यूज़ डेस्क: यूजीसी के प्रतिबंध के कारणों से नालंदा खुला विश्वविद्यालय द्वारा इस वर्ष पीएचडी में एडमिशन नहीं लिया जाएगा.नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी ने सत्र 2016-17 में पीएचडी कोर्स के लिए दाखिला नहीं लेगा. यूजीसी से मिले दिशा-निर्देशों के कारण यह फैसला लिया गया है. विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रास बिहारी प्रसाद सिंह ने जानकारी दी की, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की तरफ से निर्देश दिया गया है कि विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त हो चुके शिक्षकों को छात्रों के गाइड के रूप में नहीं रखा जा सकता.

और नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी में सेवानिवृत्त शिक्षकों की संख्या ज्यादा है. इनमें के कई शिक्षक विभिन्न विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्ति के बाद इस यूनिवर्सिटी में पढ़ा रहें हैं. यूनिवर्सिटी में शिक्षकों के लिए 18 पद हैं जिसमें सिर्फ 7 रेगुलर शिक्षक ही विश्वविद्यालय में हैं.नओयू के कुलपति ने बताया की विश्वविद्यालय में साल 2009 में पीएचडी प्रोग्राम शुरू हुआ था. अभी तक लगभग दो दर्जन छात्रों ने इस विश्वविद्यालय से पीएचडी किया है.
Loading...

पीएचडी के नए गाइड लाइंस को यूजीसी ने 2009 में जारी किया था. जिसके बाद एक बार फिर से पांच जुलाई 2012 को इसमें संशोधन किया गया.यूनिवर्सिटीज को बताया गया कि इसके लिए जल्द ही नए निर्देश जारी किया जाएगा. जब तक निर्देश ना मिले तब तक वे पीएचडी कोर्स के लिए दाखिला ना लें. हालांकि अब तक चार साल बीत गए हैं लेकिन यूजीसी द्वारा ओपेन यूनिवर्सिटीज के लिए पीएचडी में दाखिला देने के लिए कोई रेगुलेशन नहीं जारी किया गया है.




[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:” posts_per_page=”3″]

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

Flipkart पर चल रहा है, Freedom Sale, उठायें फायदा. क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.