Input your search keywords and press Enter.

बेतहाशा गर्मी के बीच पटना नगर निगम का चुनाव प्रचार पहुंचा चरम पर, 4 जून को होगी वोटिंग…

patna nagar nigam
patna nagar nigam

file photo


हितेश कुमार,पटना: जैसे-जैसे गर्मी का तापमान बढ़ता जा रहा है वैसे-वैसे पटना के नगर निगम चुनाव को लेकर भी तापमान बढ़ रहा है. आगामी 4 जून को होने वाले चुनाव के लिए सभी उम्मीद्वार जनता को अपने पक्ष में लुभाने के लिए पूरजोर आजमाइश कर रहे हैं. सभी प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ अपने-अपने चुनावी क्षेत्रों में जनता के घर-घर जाकर उन्हें अपने पक्ष में लुभाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं.

प्रत्याशी चुनाव प्रचार के लिए कार, पिकअप के अलावा रिक्शा से भी अपने प्रचार करते दिख रहे हैं. पटना के गलियों में इन दिनों सुबह होते ही विभिन्न उम्मीदवारों के प्रचार के लिए स्पीकर से उन लोगों तक अपनी आवाज पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है. कोई पक्षी की आवाज में तो कोई सामान्य सी भाषा का प्रयोग लाउडस्पीकर के माध्यम से किया जा रहा है. उम्मीदवारों से बात करने पर सभी उम्मीदवार विकास के दावे तो जरूर कर रहे हैं लेकिन अपने अपने क्षेत्र की स्थिति का आरोप वर्तमान पार्षद पर थोप दिया जा रहा है. वर्तमान पार्षद से इस मुद्दे पर बात करने पर वर्तमान पार्षद अपने-अपने क्षेत्र में विकास के काम गिनाना प्रारंभ कर दे रहे हैं. लेकिन सफाई सड़क और पानी की बात की जाए तो आरोप सरकार पर मढ़ दिया जाता है.

Loading...

बताया जाता है कि सरकार के पदाधिकारी काम करने नहीं देते हैं. वार्ड नंबर 47 से चुनावी मैदान में उतरें राजू कुमार ने बहादुरपुर इलाके में विकास के नाम पर गंदगी का आडंबर और पीने के पानी में स्वच्छ जल की सप्लाई नहीं होने की बात बताया. इसके अलावा वार्ड 46 और 55 से भी ऐसी ही बात उम्मीदवार अब बताते हैं.

वार्ड 46 के प्रत्याशी रीना कुमारी ने बताया कि वार्ड में परिवर्तन का लहर है और लोग परिवर्तन चाहते हैं और इस परिवर्तन के दौर में जनता की मांगों पर विकास हमारा प्रमुख एजेंडा है. इसके अलावा वार्ड 55 और वार्ड 45 का भी कुछ ऐसा ही हाल सुनने को मिल रहा है. अब पटना की जनता की बारी आ चुका है और उम्मीदवार जनता को अपने पक्ष में कितना ज्यादा से ज्यादा आकर्षित कर सकते हैं. यह तो मतगणना के बाद ही पता चल पाएगा.

4 जून को पटना की जनता अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकासोन्मुख पार्षद को चुनने का काम करेगी. अभी चुनाव प्रचार के दौरान सभी प्रत्याशी विकास के दावे तो करते नहीं थक रहे हैं लेकिन पार्षद बनने के बाद शायद उन्हें यह सब दावे भी याद रहे. अब देखने वाली बात यह रहेगी कि पटना की जनता द्वारा तय किया गया इन 72 वार्डों के पार्षद आने वाले दिनों में अपने-अपने क्षेत्रों का विकास कितना कर पाएंगे, यह तो समय ही बताएगा. लेकिन फिलहाल जनता द्वारा तय किया गया इन 72 पार्षदों का पता तो मतगणना के बाद ही चल पाएगा.
नोट:- पटना के सभी नागरिकों से आग्रह है कि लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए आगामी 4 जून को अपना-अपना मताधिकार का प्रयोग जरुर करें.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.