Input your search keywords and press Enter.

राष्ट्र गीतों से गूंज उठा 34 शहीदों की भूमि तारापुर, युवाओं ने की राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने की मांग

तारापुर से मुंगेर तक की शहीद श्र्द्धांजलि यात्रा का समापन गुरुवार को मुंगेर नगर भवन परिसर में जयराम विप्लव की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ.
कार्यक्रम में उपस्थित युवाओं को सम्बोधित करते हुए जयराम विप्लव ने कहा कि 15 फ़रवरी 1932 को तारापुर थाना पर तिरंगा लहराते हुए 34 वीर बलिदान हुए थे. उन वीरों की शहादत का साक्षी वो ऐतिहासिक थाना भवन आज जीर्ण अवस्था में है जिसे संरक्षित कर सौंदर्यकरण की सख़्त ज़रूरत है. और इसके ऐरिहासिक महत्व को देखते हुए इसे राष्ट्रीय धरोहर बनाने की माँग की लेकर शहीद श्र्द्धांजलि यात्रा मुंगेर पहुँचा है. यह बलिदान संख्य के हिसाब से दूसरा और भावना – मनोबल के मुताबिक़ सबसे बड़ा बलिदान था.

कार्यक्रम में मुख्य रूपसे उपस्थित ज़िलाधिकारी ने बड़े भावनात्मक अन्दाज़ में कहा कि तारापुर के बलिदान के प्रति मेरी पूरी श्रधा है. इस शहादत को पूरे देश के लोग जाने इसके लिए आपकी माँगों को पूरा करने हर संभव प्रयास करूँगा. शहीद के परिवारों को पहचान पत्र देने का घोषणा किया. और कहा कि शहीद परिजनों के परिवार को ज़िला प्रशासन का पूर्ण सहयोग रहेगा.

Loading...

tarapur

भाजपा नेता सौरभ कुमार ने कहा कि इतने बड़े बलिदानी घटना के विषय में आने वाली पीढ़ी को अवहत कराने के लिए इस को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए. इसके लिए ज़िला प्रशासन को पहल करनी चाहिए. वहीं तारापुर के शहीदों की याद में सुबह ११ बजे से टाउन हॉल में अंग क्षेत्र के लोकप्रिय गायक राजकुमार भट्ट का देशभक्ति कार्यक्रम भी हो रहा था.

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से शहीद बदरी मंडल के परिवार के शिव नारायण सिंह और शहीद विश्वनाथ सिंह के व्न्श्ज जीवन सिंह के अलावा पारमाउंट के सुबोध जी, विष्णु जी, डॉक्टर रामानन्द प्रसाद, यदुकुल जी, साकेत, नन्हें सिंह, कुमार श्रीन, अमित कुशवहा, गौतम, सिद्धांत, अभिनव, मनोज सिंह आदि थे.


इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.