Input your search keywords and press Enter.

लालू को जेल और जगन्नाथ मिश्रा को बेल, यहीं है मोदी का खेल-रघुवंश प्रसाद


न्यूज़ डेस्क: कल सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाला में देवघर के कोषागार से अवैध निकासी मामले को लेकर लालू प्रसाद यादव के खिलाफ फैसला सुनाया है. सीबीआई के विशेष अदालत ने लालू प्रसाद यादव को दोषी माना है. इस मामले में सीबीआई कोर्ट तीन जनवरी को सजा का ऐलान करेगी. जबकि इसी मामले में पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र को को बरी कर दिया है.

पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को बरी किये जाने के बाद राष्ट्रीय जनता दल ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. इस फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि हमारी लड़ाई जारी रहेगी इस फैसले के खिलाफ हम हाईकोर्ट जायेंगे. फैसले पर असंतुष्टि जाहिर करते हुए कहा कि एक ही मामले में लालू को जेल और जगन्नाथ को बेल, यही है मोदी का खेल.

जबकि राजद के प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि लालू अगर यादव के बदले मिश्रा होते तो दोष मुक्त करार दिए जाते. उन्होंने कहा है कि फैसला समझ से परे है. उन्होंने इसे भाजपा के साजिस की परकाष्ठा बताया है. उन्होंने कहा है कि फैसले के ठीक दो मिनट पहले न्याय- कक्ष में आसन का मोबाईल बजना और दोष क़रार देना और उसके बाद आसन के द्वारा भद्दी टिप्पणी करना न्याय नहीं है पर मुझे उच्च न्यायालय पर पूरा भरोसा है. उन्होंने कहा है कि यह फैसला भाजपा के साजिश का हिस्सा है. दिन और समय साजिश का हिस्सा. पहले 11 फिर तीन, उसके बाद नेता की तरह गलियारों और प्रांगण में आवाजाही. ये सब भाजपा की साजिश का हिस्सा है. नटराजन की रिहाई खून का हिस्सा. पर हमे न्यायपालिका पर भरोसा है और न्याययिक प्रक्रिया का सम्मान करते हैं.

Loading...

shakti yadav

file pic


गौरतलब कि तेजप्रताप यादव ने कहा है कि,”सारा सिस्टम…सारी सरकारी मशीनरी और कॉर्पोरेट लालू यादव के पीछे हाथ धोकर पड़े हैं. न्यायपालिका से लेकर कार्यपालिका तक, सड़क से लेकर संसद तक अगर ध्यान से देखा जाए तो लालू यादव को खलनायक साबित करने के लिए विरोधियों में गलाकाट प्रतियोगिता चल रही है. तेजप्रताप ने कहा है कि याद रखें लालू नाम नहीं बल्कि एक विचारधारा है.”

पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र को को बरी कर दिए जाने पर हैरानी जताते हुए कहा है कि, “मामला एक हीं पर “मिश्रा” को बेल और यादव को “जेल”. कैसी विडंबना है साहिब?” तेजप्रताप यादव ने कहा है कि उनके पिता, “काश लालू प्रसाद “यादव” भी लालू प्रसाद “मिश्रा” होते.” तेजप्रताप यादव ने हजार करोड़ से ऊपर का सृजन घोटाले के बारे में जिक्र करते कहा है कि, “जिस तर्क से लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले में दोषी होते हैं, उसी तर्क से उन्हीं परिस्थितियों में सृजन और बिहार में रोज सामने आ रहे दो दर्जन घोटालों के नीतीश कुमार भी दोषी होते हैं. फिर यह दोहरा मापदंड क्यों??”


यह भी पढ़ें:
बिहार की सियासत में मची हलचल, तेजस्वी ने कहा लालू के साथ खड़ा एक-एक बिहारी है….

चारा घोटाला में दोषी करार दिए जाते ही लालू ने कहा, ‘ना जोर चलेगा लाठी का, लालू लाल है माटी का’

लालू पर फैसला आते ही भावुक तेजप्रताप यादव ने कहा, “मिश्रा” को बेल और यादव को “जेल”….

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.