Input your search keywords and press Enter.

मुफ्त शिक्षा प्रदान करने वाले बिहार के इस लाल को कल दिल्ली में मिलेगा वेस्ट यंग टीचर का अवार्ड…

न्यूज़ डेस्क: बिहार के समस्तीपुर जिला अंतर्गत सुदूर इलाके रोसड़ा में शिक्षा की अलख जगाने वाले बीएसएस क्लब के संस्थापक राजेश कुमार सुमन को कल दिल्ली विश्वविद्यालय के हंस राज काॅलेज में वेस्ट यंग टीचर का अवार्ड प्रदान किया जायेगा. उनको यह अवार्ड ग्रेस इंडिया चैरेटीबल ट्रस्ट के तरफ से समाज के बीच गरीब, दिव्यांग और बेटियों को बीएसएस क्लब के माध्यम से नि:शुल्क शिक्षा का दीप जलाने के लिए दिया जा रहा है.

बीएसएस क्लब के संस्थापक राजेश कुमार सुमन ने डेली बिहार न्यूज़ से विशेष बातचीत में बताया कि, “किसी गरीब को पैसे दे दो तो उसकी जरुरत को आप कुछ हद तक ही पुरा कर सकते हैं. लेकिन अगर आप किसी अशिक्षित को शिक्षा दे दें तो आप उसकी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य संवर सकता है. इसी सोच से मैने विदेश मंत्रालय की नौकरी छोड़कर बच्चों को शिक्षित और रोजगार सृजन में मदद करने के मकसद से शिक्षा जगत में कदम रखा.”

सरकारी नौकरी छोड़ संघर्ष भरे डगर पर चलने के सवाल पर कहा कि, “शिक्षा उस खुश्बू की तरह होती है जो सदा फैलती है और समाज में सकारात्मक बदलाव का कारण बनती है. इन्हीं बातों को समझते हुए छात्रों को शिक्षा प्रदान करने और समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के मिशन के रूप में मै जुट गया. कभी इस बात की चिंता नहीं हुई की आगे क्या होगा. मुश्किलों का सामना भी करना पड़ा. लेकिन छात्रों और आसपास के लोगों के सहयोग के कारण आज क्लब अपनी अलग पहचान बना चुकी है.

सुमन के कोचिंग से 300 से भी अधिक बच्चे विभिन्न प्रतियोगिताओं के लिए मुफ्त कोचिंग ले रहे हैं. यहां से ट्रेनिंग लिए छात्र विभिन्न प्रतियोगिताओं में सफल भी हो रहे हैं और अपना और अपने परिवार का नाम रौशन कर रहे हैं. रेलवें, एसएससी, सेना और बिहार पुलिस विभाग के विभिन्न पदों के लिए सुमन छात्रों को ट्रेनिंग देते हैं.

Loading...

सुमन बताते हैं कि बिहार में काफी लोग फौज में हैं और देश की सेवा में लगे हुए हैं ऐसे में हम अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए शहीदों के बच्चों को मुफ्त में कोचिंग देते हैं साथ ही विधवाओं, गरीबों, किसानों और विकलांग के बच्चों को मुफ्त में कोचिंग दी जाती है. सुमन को जब भी समय मिलता है वे ग्रामीण इलाकों में जाकर शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए काम करते हैं वे वहां के छात्रों को गाइडड भी करते हैं. शिक्षा संबंधी उनकी हर समस्या को हल करते हैं. वे ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को जागरूक करते हैं और उन्हें शिक्षा के महत्व को बताते हैं. इस काम में वे पिछले कई वर्षों से लगे हुए हैं जिस कारण समस्तीपुर में सुमन का काफी नाम है और दूर-दूर से लोग उनसे सलाह लेने आते हैं. सुमन मानते हैं कि लोगों को शिक्षा के प्रति जागरूक करना ही अब उनकी जिंदगी का लक्ष्य है.

सुमन के मुफ्त शिक्षा मिशन की तारीफ़ आज देश विदेश में हो रही है. अब तक इस मुफ्त शिक्षण संस्थान से पढ़ कर बच्चे देश के अलग-अलग जगहों पर देश की सेवा में लगे हुए हैं. रेलवे, एसएससी, बैंक, सेना से लेकर बिहार के लगभग सभी विभागों में कार्यरत हैं. इस बार बीपीएससी के प्रारंभिक परीक्षा में इस संस्थान से 5 बच्चे सफल हुए जबकि टीईटी में 24 में से कुल 16 ने सफलता प्राप्त की है.

सुमन को प्रोत्साहित करने के लिए ललित नारायण मिथिला युनिवर्सिटी निवर्त्तमान कुलपति साकेत कुशवाहा सम्मानित कर चुके हैं. इसके अलावे अंतराष्ट्रीय यूथ मोटिवेटर मुन्ना भाई, तकनीकी युवा शिक्षाविद् प्रीतम शाही के अलावे डीबीएन के सम्पादक विकर्ण राज वर्मा, स्किल माइंड के संस्थापक मुकुल श्रीवास्तव सहित अन्य गणमान्य भी यहां बच्चों के बीच उत्साह बढाने के लिए पधार चुके हैं.


यह भी पढ़ें:
विदेश मंत्रालय की नौकरी छोड़, बिहार के यह युवा गुरु जो फ्री में करवाते हैं प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी…

बिहार के लाल अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त यूथ मोटिवेटर मुन्ना भाई करेंगे देश का प्रतिनिधित्व, जान हर बिहार को होगा गर्व….

विश्व पर्यावरण दिवस: “सेल्फी विथ ट्री” मुहिम चला देश विदेश में प्रसिद्धी पा रहे इस बिहारी का हर कोई है कायल…

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.