Input your search keywords and press Enter.

राजद ने कहा नोटबंदी की तारीफ करने वाले नीतीश कुमार अब जवाब क्यों नहीं देते…

lalu-nitish
lalu-nitish

फ़ाइल फोटो

नोटबंदी की तारीफ करने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर राजद ने हमला बोला है. राजद ने नीतीश कुमार से कहा कि भक्त नीतीश ने नोटबन्दी की भूरी भूरी प्रशंसा की थी. अब जब आँकड़े सामने आ गए हैं तो बोलते क्यों नहीं? दरअसल सृजन की लीपापोती में लगे हैं! राजद ने मीडिया को निशाना बनाते हुए कहा कि जिस भक्ति से मीडिया वाले नोटबन्दी की गुणगान कर रहे थे, उसी तल्लीनता से आज इसके असफल सिद्ध होने की घोषणा क्यों नहीं कर रहे?

आपको बता दे कि आरबीआई ने अपनी सालाना रिपोर्ट में यह कहा है कि नोटबंदी के दौरान महज 41 करोड़ रुपये के जाली नोट पकड़ में आए. रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी के बाद लोगों ने बंद हुए 15.44 लाख करोड़ रुपये में से 15.28 लाख करोड़ रुपये बैंकिंग प्रणाली में जमा कराए दिए. यह आंकड़ा चलन से बाहर किए गए 500 और 1,000 रुपये के नोटों का करीब 98.96 फीसदी है.

Loading...

हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि सत्यापन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद इसमें कुछ संशोधन हो सकता है. आरबीआई के पास पुराने नोट सीधे तौर पर जमा कराए गए या बैंक शाखाओं और डाकघरों के जरिये आए. कुछ नोट अब भी करेंसी चेस्ट में पड़े हैं. ऐसे में आरबीआई नोटों के केवल अनुमानित मूल्य ही बात सकता है कि और वास्तविक आंकड़े नहीं दे सकता है. हालांकि संशोधित आंकड़ों में अनुमानित आंकड़ों से ज्यादा अंतर नहीं होगा. आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2017 तक करीब 8,900 करोड़ रुपये मूल्य के 1,000 नोट वापस नहीं आए। 500 रुपये के नए और पुराने नोटों का अलग-अलग आंकड़ा स्पष्ट नहीं है.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.

[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.