Input your search keywords and press Enter.

दुखी मन से बिहार वासियों ने 157 वर्षो से चल रही ट्रेन को कहा अलविदा

train

train

न्यूज़, डेस्क; मालदा रेल डिवीजन ने सुलतानगंज-जमालपुर के बीच 157 वर्षों से चलनेवाली बाबू गाड़ी (श्रमिक ट्रेन) आज बुधवार से नहीं चलेगी. भारी मन से लोगो ने ट्रेन को अलविदा कहा. बाबू गाड़ी (श्रमिक ट्रेन) का परिचालन अंग्रेजी हुकूमत ने 8 फरवरी, 1862 में शुरू किया था. जमालपुर रेल कारखाना में काम करनेवाले श्रमिकों को समय पर कारखाना पहुंचाने के लिए यह ट्रेन चलायी गयी थी. उस समय 2500 से अधिक श्रमिक की संख्या होती थी, लेकिन वर्ष 2017 के आते-आते श्रमिकों की संख्या महज 250 रह जाने के कारण बाबू गाड़ी को बंद करने का निर्णय किया गया है.

Loading...

मंगलवार की देर जब शाम सुलतानगंज स्टेशन पर इस गाड़ी का दर्शन करने के लिए लोगों की काफी भीड़ जुटी थी. लोग गाड़ी के साथ यादगार के लिए सेल्फी ले रहे थे. श्रमिक ट्रेन बंद होने के बाद रेल कारखना ने वैकल्पिक रास्ता तैयार कर लिया है. मजदूरों को अपने घर से आने-जाने के लिए हर महीने रेलवे उन्हें 1800 रुपये यात्रा भत्ता के रूप में भुगतान करेगी. इस भत्ता से मजदूर और कर्मी सड़क और रेल मार्ग से कारखाना पहुंचेंगे.

ट्रेन से मनो सरे श्रमिको का की रिश्ता सा बन गया था पर अब 157 वर्षो बाद यह रिश्ता अचानक हे ख़तम हो गया.

यह भी पढ़ें:
साढ़े छह लाख के ईनामी नक्सली सबजोनल कमांडर महेश ने बाराचट्टी थाना में किया आत्मसमर्पण

बिग ब्रेकिंग : एक साथ 15 थाना प्रभारी का मनु महाराज के आदेश पर हुआ तबादला

ट्रेन से कटकर अज्ञात महिला की मौत, शव की अब तक नहीं हुई शिनाख्त

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.