Input your search keywords and press Enter.

कतर में फंसा हुआ है बिहार का बेटा शैलेश खाने को है मोहताज, पूरी कहानी जान आँखों में आ जायेगा पानी…

shailesh in quatar
shailesh in quatar

file photo


न्यूज़ डेस्क: बिहार के नवादा जिला अंतर्गत रजौली प्रखंड के मननपुर गांव के कामेश्वर प्रसाद का पुत्र शैलेश प्रसाद पिछले कुछ दिनों से कतर में फंसा हुआ है और वापस अपना वतन लौटने की कोशिश कर रहा है लेकिन उसे मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. कतर इंजीनियरिंग कंपनी में काम करने के लिए मुंबई के रास्ते कतर पहुंचा शैलेष भारी मुश्किलों के बीच जूझ रहा है.
Loading...

दरअसल कतर के साथ सऊदी अरब और सयुंक्त अरब अमीरात समेत छह देशों ने सभी राजनयिक संबंध तोड़ लिया है जिसके बाद इस देश में आर्थिक मंदी छा गई है. इस वजह से कई देशों के नागरिक यहां फंस गए है. इसी क्रम में शैलेष भी चाहकर वतन नहीं लौट पा रहा है. शैलेश के पत्नी के मुताबिक़ शुरुआत में तो सब ठीक-ठाक था लेकिन बाद में मुश्किल बढ़ती गई काम आठ के बजाय 12 घंटे काम लिया जाने लगा और वेतन 5000 रुपए हर महीने की जगह 18,000-20,000 रुपए ही दिया जा रहा है. कम्पनी ने पिछले दो महीनों से उसे सैलरी भी नहीं मिली है खाने के लिए भी लाले पड़ गए हैं. वह अपने स्वदेश लौटना चाहता है लेकिन कम्पनी ने उसका वीजा-पासपोर्ट जब्त कर रखा है. शैलेश के घर वालों का हाल बुरा है इस खबर घर वालों को इस खबर से किसी आशंका से डरे हुए हैं. बस एक ही इच्छा है वो वापस अपने घर लौट आए.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.