Input your search keywords and press Enter.

सौंदर्यकरण के नाम पर गरीबों का घर ऊजार् रहा रेलवे, होगी आर पार की लड़ाई!

Suresh Prabhu

Suresh Prabhu


रेलवे सौंदर्यकरण के नाम पर गरीबो का घर ऊजार् नहीं सकती है. अगर रेलवे ऐसा करती है तो व्यवसायी आर पार की लड़ाई लड़ेगी.  सिमरी बख्तियारपुर के ववसायी ने रेल के खिलाफ बिगुल फुक दिया है.इसी बीच रेलवे के जमीन में दुकान कर रहे व्यवसायी के द्वारा एक कमिटि का गठन किया गया है. निवर्तमान जिला परिषद रितेष रंजन के नेतृत्व में आयोजित बैठक में वर्तमान समस्या को लेकर कई तरह के चर्चा किया गया.

बैठक में सभी व्यवसायी ने एक स्वर में कहा कि राजनिती से प्रेरित होकर रेलवे किसी का दुकान नही तोड सकती है. इनके लिये अगर हमलोगो को संघर्ष करना होगा. सभी व्यवसायी ने एक स्वर में कहा कि हमलोग रेल एवं स्टेषन का विकास चाहते है. रेलवे की काफी खाली जमीन है. रेलवे उनका प्रयोग क्यो नही करता है. जो गरीब 60 वर्षो से बसा है उसे उजार नही सकता है.
railway-businessman

कमिटि का हुआ गठन- संघर्ष समिति में सक्रिय सदस्यो मे ंसर्वसम्मति से जिला परिषद उपाध्यक्ष रितेष रंजन महासचिव, समिति के अध्यक्ष विजय कुमार उर्फ भीएस, अरूण गुप्ता कोषाध्यक्ष, विवेक भगत को उपमहासचिव, रमेष कुषवाहा एवं संजय भगत को संगठन सचिव, विन्देष्वरी प्रसद भगत, विवेक कुमार एवं विजय कुमार को लीगल सलाहकार, अजय कुमार एवं सोनु कुमार को मिडिया प्रभारी बनाया गया है. इस आलावे पांच लोगा ेको उपाध्यक्ष, में पूरन यादव, अषोक जयसवाल,  पुषेनद्र गुप्ता, अरविंद सिंह, मनोज भगत, सचिव में मो परवेज आलम, राजकुमार साहा, अरूण भगत, चार उपसचिव में सजय भगत, पिन्टु भगत, मो जहांगीर आलम, युगेष्वर साह, को बनाया गया है.

Loading...

कई प्रस्ताव हुआ पारित- बैठक में प्रस्ताव पास किया गया कि रेलवे को सौन्दर्यकरण के लिये जो जमीन चाहिए तो दुर्गास्थान के पूर्वी दीवार के किनारा को पूर्वी सीमान मानकर वहां से अतिक्रमण मुक्त कराया जाये. रेलवे पांर्किग जाने का रास्ता रेलवे परिसर की तरफ हो. जिन जमीन वालो को रसीद नही है उन्हे रसीद दिया जायें. बार बार रेलवे अतिक्रमण के नाम पर गरीब लोगो को तबाह एवं परेषान नही किया जाये.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[addtoany]

[related_posts_by_tax title=”रिलेटेड न्यूज़:”]

Leave a Reply

Your email address will not be published.