Input your search keywords and press Enter.

बिहार कांग्रेस में टूट की चर्चाओं के बीच सदानंद सिंह….

sadanand-singh
sadanand-singh

file image

न्यूज़ डेस्क: बिहार में महागठबंधन की सरकार टूटने के बाद अगर किसी पार्टी को सबसे ज्यादा कोई पार्टी संकट के दौर से गुजर रहा है वो है कांग्रेस. बिहार प्रदेश कांग्रेस के सरकार से बाहर होने के बाद टूट की खबर लगातार मीडिया में आ रही है. लगातार सियासी गलियारों में कयास लगाए जा रहे हैं कि करीब एक दर्जन विधायक पार्टी आलाकमान से नाराज चल रहे हैं. इस संकट को दूर करने के लिए आलाकमान ने बिहार के बड़े नेताओं को दिल्ली बुलाया है.

राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी और पार्टी के विधायक दल के नेता सदानंद सिंह को दिल्ली तलब किया. सोनिया गांधी के बुलावे पर दोनों नेता दिल्ली उनसे मिलने के लिए गए. कल सदानंद सिंह से वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने उनसे करीब डेढ़ घंटे मुलाकत के दौरान नाराजगी दूर करने के लिए गहन-विचार विमर्श किया था. प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी से अहमद पटेल ने उनसे मुलाकात कर बातचीत की थी. आज पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी बिहार कांग्रेस में टूट की चर्चाओं के बीच वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह से 11.30 बजे मुलाकात अपने आवास 10 जनपथ में करेंगी और बिहार में चल रही संकट को दूर करने की कोशिश करेंगी.

Loading...

इससे पहले ऐसी खबरे आयीं थी कि पार्टी के टूट की खबरों से आलाकमान में काफी नाराजगी है. बताया जा रहा है कि आलाकमान को यह खबर मिल रही है कि सदानंद सिंह पार्टी में टूट को हवा दे रहे हैं. और उनके आवास पर नाराज विधायकों की लगातार बैठकों का दौर जारी है. मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक विधायक दल केे नेता सदानंद सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी है. पार्टी में टूट की खबर उस समय जोर पकड़ी थी जब सदानंद सिंह के आवास पर नीतीश के करीबी मंत्री ललन सिंह ने जाकर मुलाकात की थी. हालांकि इस बात को सदानंद सिंह ने गलत बताया था. पार्टी को टूट से बचाने के लिए आलाकमान ने वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और जेपी अग्रवाल को बिहार भेजा था जिसके बाद उन्होंने रिपोर्ट आलाकमान को सौपा था जिसके बाद उन्हें दिल्ली तलब किया गया है.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.

[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.