Input your search keywords and press Enter.

ANM घोटाला में नीतीश के मंत्रियों के बाद अब स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप भी फसें!

tejpratap
tejpratap attack on modi

file photo


अजित कुमार,पटना: बिहार एसएससी घोटाले को एसआईटी की जाँच में कई मंत्रियों और विधायकों के नाम का खुलासा होने के बाद सियासी घमासान मच हुआ है. इस मामले में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और विधान परिषद् में नेता प्रतिपक्ष सुशील कुमार ने सूबे के स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा है कि ANM घोटाला में तेज प्रताप के OSD का बात सामने आई है.

सुशील मोदी ने आरोप लगाया है कि स्वास्थ मंत्री के osd शंकर प्रसाद ने तीन टेलीफोन किया है 4 कैंडिडेट का पैरवी किया है. जिनका नाम तथा रोल नंबर भी बताया है सुशील मोदी ने बताया है इस पुरे घटना को लेकर मोदी ने सीबीआई से जाँच करने की मांग की है.

गौरतलब है की अपने चाहने वालों की भर्ती के लिए राजद के वरिष्ठ नेता और बिहार सरकार के मंत्री आलोक मेहता तथा जदयू कृष्णनंदन वर्मा पैरवी किये थे. इसके अलावा राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह का भी नाम सामने आ गया है. जदयू के विधायक रामबालक सिंह और भाजपा के विधायक सुरेश कुमार शर्मा भी पैरवीकारों में शामिल हैं.

Loading...

एससआईटी की जाँच में राजद के वरिष्ठ नेता और बिहार सरकार के मंत्री आलोक मेहता तथा जदयू के कृष्णनंदन वर्मा का भी नाम आने के बाद दोनों का सफाई में बयान भी दिया है. इस मामले को लेकर नीतीश सरकार के दोनों मंत्रियों ने डेली बिहार न्यूज़ से बातचीत में अपनी सफाई दी है.सहकारिता मंत्री अलोक मेहता ने कहा है कि पैरवी और साजिशमें अन्तर होती है. पैरवी हर कोई करता है पैरवी किये थे.

वहीं जदयू के विधि मंत्री कृष्णन्दन वर्मा ने कहा की एनएनएम बहाली में मैंने पैरवी की होगी जोकि हर विधायक को सामाजिक जीवन में करना पड़ता है.
इस बड़े खुलासे के बाद सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री और हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने नीतीश सरकार से इस लीककांड में अधिकारीयों की ही तरह अपने मंत्रीयों विधायक पर भी कार्रवाई की मांग की है.

[shareaholic app=”recommendations” id=”18820568″]
इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”18820564″]

Leave a Reply

Your email address will not be published.