Breaking News
December 12, 2018 - लालू निकलना चाहते हैं बाहर
December 12, 2018 - कृषि विभाग में निकली बंपर बहाली
December 12, 2018 - महागठबंधन में यह फार्मूला आया सामने
December 12, 2018 - तेज प्रताप भी जीत से उत्साहित
December 12, 2018 - हार के अगले दिन बिहार में योगी
December 12, 2018 - बिहार से बाहर जदयू के सभी प्रयासों का हुआ बुरा हाल
December 12, 2018 - महागठबंधन में बड़े भाई और छोटे भाई पर बिगड़ी बात
December 12, 2018 - लोस के शीत सत्र में सुपौल की कांग्रेस सांसद ने इन मुद्दों को ले दी स्थगन प्रस्ताव नोटिस
December 12, 2018 - वसुंधरा राजे सरकार के 30 में से 20 मंत्री चुनाव हार गए, बेटे को टिकट दिलवाया वो भी हार गये
December 11, 2018 - मुख्यमंत्री ने समाजवादी नेता स्व0 राम अवधेष चैधरी के श्राद्धकर्म में भाग लिया

मांझी ने लालू को दिया शौक, लड़ेंगे सबसे ज्यादा सीटों पर

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

राजनीति का खेल सभी खेलों और फिल्मों से ज्यादा रोचक माना जाता है, खासकर उनके लिए जो इसमें इंटरेस्टेड होते है. चूँकि चुनाव नजदीक है तो यह खेल और रोचक होता जा रहा है. महागठबंधन में अभी तक सिर्फ कांग्रेस और राजद में सीटों को लेकर खींचतान चली आ रही थी लेकिन अब मांझी भी इस दंगल में खुद गये है. मांझी ने तो दो हाथ आगे बढ़ कर 20 सीटों की मांग महागठबंधन से कर दी है.

रविवार को हिंदुस्‍तानी अवाम मोर्चा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक हुई. बैठक में परिषद के सदस्‍यों ने पूर्व मुख्यमंत्री व पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी से बिहार में लोकसभा की 20 सीटों पर दावेदारी पेश करने की मांग की. बाद में मांझी ने पत्रकारों से कहा कि बैठक में सदस्यों ने अपनी राय रखी.

मांझी के बयान पर महागठबंधन के नेताओं की प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गईं हैं. कांग्रेस नेता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा है कि मांझी कई बार कार्यकर्ताओं को उत्‍साहित करने के लिए ऐसे बयान देते हैं. अगर उनके पास इतने उम्‍मीदवार हैं तो हम इतनी सीटें देंगे. उन्‍होंने कहा कि महागठबंधन में कोई मतभेद नहीं है. मांझी महागठबंधन के प्रमुख नेता हैं. ये प्रारंभिक स्‍तर की चीजें हैं. इसपर महागठबंधन के शीर्ष नेता फैसला करेंगे.

राजद प्रवक्‍ता मृत्‍युंजय तिवारी ने कहा कि मांझी के महागठबंधन में आने से राजग को दर्द हो रहा है. इसमें कोई परेशानी नहीं है. हमारे यहां कोई किचकिच नहीं है. मांझी के बयान पर जदयू व भाजपा ने तंज कसे हैं. जदयू के संजय सिंह ने कहा कि मांझी जब नीतीश कुमार के नहीं हुए तो लालू प्रसाद यादव के क्‍यों होंगे.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles