Breaking News
October 16, 2018 - पटना:दीपावली बाद जीजे कॉलेज बिहटा में पीजी का दर्जा के लिए होगा महाआंदोलन-कुश कुमार
October 16, 2018 - टीवीएस मोटर की नई मॉडल रेडॉन लॉन्च ।
October 16, 2018 - खुली किताब प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन ,परिणाम 21अक्टूबर को होगा प्रकाशित ।
October 16, 2018 - जिलास्तरीय कलाकारों का चयन कार्यक्रम का आयोजन किया गया
October 16, 2018 - पटना:अवैध संबंध का विरोध करने पर पत्नी को किया आग के हवाले, आसपास के लोगों ने बचाई जान।
October 16, 2018 - पटना:बिहटा पुलिस ने एक कट्टा दो ज़िंदा कारतूस के साथ एक अपराधी को धर-दबोचा।
October 16, 2018 - आरा में फिल्म स्टार रवि किशन एवं सुरभि शर्मा ने लगाए ठुमके ,झूमे श्रोता
October 15, 2018 - अल्पसंख्यक समुदाय को मुख्य धारा में लाने के लिए जिस किसी योजना की आवश्यकता होगी उसे लागू किया जाएगा:मुख्यमंत्री
October 15, 2018 - अरवल: डीएम व एसपी ने दुर्गा पूजा को शांतिपूर्ण संपन्न कराने के लिए सभी दंडाधिकारियों के साथ संयुक्त बैठक कर दिए कई दिशा-निर्देश
October 15, 2018 - अरवल:डीएम एवं एसपी ने दशहरा पर्व के अवसर पर जिले के सभी पूजा समिति सदस्यों के साथ संयुक्त बैठक कर दिए कई निर्देश

अश्विनी चौबे जैसे को कौन बना देता है मंत्री?

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
ashwini kumar choubey

Photo: Indian Express

ब्लॉग. पर्बिंद कुमार. रोज हम नेताओं के बयान देखते है. ऐसा नहीं है कि हम सिर्फ अश्विनी चौबे की बात करने के लिए यह ब्लॉग लिख रहे है. कई ऐसा नेता हैं जो बड़े पदों पर रहते हुए शर्मनाक बयान देते रहते है और उनपर कोई कार्रवाई नहीं होती. मणिशंकर अय्यियर का बयान भी याद आता है जब उन्होंने प्रधानमंत्री को नीच कहा था तब उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया था लेकिन अब फिर शामिल कर लिया गया. तो क्या अश्विनी चौबे पर भी कार्रवाई नहीं होनी चाहिए?

सवाल मन में यही उठता है कि ऐसे नेताओं को मंत्री कौन बना देता है? क्या इसके लिए हम जनता जिम्मेदार नहीं है? हम क्यों ऐसे नेताओं को वोट देकर जिताते है? हम जान बुझ कर ऐसे नेताओं को आगे बढ़ाते है, क्युकी हम भी उन्ही की तरह है. हमें खुद को भी बदलना चाहिए. पार्टी लेवल पर न सोच कर इंडिविजुअल नेताओं को वोट करने से ही अच्छे नेता आगे बढ़ेंगे.

एक मंत्री, भारत के एक बड़ी पार्टी के अध्यक्ष को ‘नाली का कीड़ा’ कहता है वह भी सार्वजनिक रूप से, क्या ऐसे नेताओं को बोलते वक्त इतना भी शर्म नहीं आता कि वह भारत सरकार में मंत्री है.

बयान एक बार फिर सुनिए,

अश्विनी चौबे ने कहा, “प्रधानमंत्री गगन के जैसे हैं और जो आज कांग्रेस अध्यक्ष हैं उनका आकार कैसा, नाली के कीड़े जैसा” राहुल गांधी को मानसिक रूप से बीमार बताते हुए कहा कि उन्‍हें मेंटल सिजोफ्रेनिया की बीमारी है.

बीजेपी ने सिर्फ यह कह कर अपना पल्ला झाड़ लिया कि यह उनका व्यक्तिगत बयान है. अरे भाई वह आपके सरकार में मंत्री है, आप ऐसे नेताओं को क्यों रखे हुए है जिन्हें बोलने तक नहीं आता, काम क्या करेंगे. आप क्यों नहीं अनुसाशन कायम करने की कोशिश करते है और ऐसे नेताओं पर कार्रवाई करते है? सवाल कई हैं लेकिन जवाब आजकल की राजनीति में नहीं मिलेगा लेकिन जनता को जरुर ऐसे नेताओं को सबक सिखलाना चाहिए.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles