Breaking News
October 17, 2018 - मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के सुख, शांति एवं समृद्धि के लिए माॅ भगवती शीतला माता, बड़ी पटनदेवी एवं छोटी पटनदेवी की पूजा अर्चना की।
October 17, 2018 - मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महाष्टमी पर्व पर गर्दनीबाग ठाकुरबाड़ी स्थित माँ दुर्गा मंदिर में पूजा अर्चना की
October 17, 2018 - पटना:मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई पंडालों में माँ दुर्गा की प्रतिमा के दर्शन किये
October 17, 2018 - हमारा लोकतांत्रिक अधिकार को छीनने  का प्रयास किया जा रहा है-मौलाना अब्दुल वारिश 
October 17, 2018 - पटना:एक अक्टूबर से अगवा लड़की को पुलिस अब तक बरामद नहीं कर पाई।परिजनों का बुरा हाल।
October 17, 2018 - जिप सदस्या गुलशन आरा ने शांतिपूर्ण माहौल में त्योहार मनाने का अपील किया
October 17, 2018 - महाष्टमी पर हुआ कन्या पूजन
October 17, 2018 - दुर्गोत्सव के उपलक्ष्य में हुआ रौशन, पंडालों में उमड़े लोग
October 17, 2018 - पटना:बिहार में कृष्ण और अर्जुन का हीं राज होगा- तेज प्रताप
October 17, 2018 - सवर्णों को मनाने में जुटी बीजेपी और जदयू, ले सकती है यह बड़ा फैसला

अनोखी प्रेम कहानी: पति ने बनवाया पत्नी का मंदिर, रोज करता है पूजा

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

लाइफस्टाइल डेस्क: अपने बहुत साडी प्रेम कहानी सुनी होगी और जानते भी होगी. हर इंसान अपने प्यार को अमर करना चाहता है. आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी सुनाने वाले है. एक किसान के बारे में जिसने ‘प्यार का मंदिर’ बनवाया है और उस मंदिर में अपनी पत्नी की मूर्ति स्थापित की है. इतना ही नहीं, 12 साल से वह किसान पूरी आस्था और श्रद्धा के साथ उस मंदिर में पूजा भी करता है.

mandir2

कहानी कर्नाटका की है, कर्नाटक के चामाराजानगर जिले के कृष्णपुरा गांव में राजू उर्फ राजूस्वामी नामक किसान ने अपनी पत्नी राजम्मा के नाम पर 2006 में ‘राजम्मा मंदिर’ बनवाया था. इस मंदिर में स्थापित राजम्मा की मूर्ति को खुद बनाया है. इस मंदिर में राजम्मा के साथ-साथ निश्वरा, सिड्डप्पाजी, नवग्रह और भगवान शिव की भी मूर्तियां हैं.

राजू ने अपनी बहन की बेटी से शादी की थी. राजू ने कहा, ‘मेरे माता-पिता हमारी शादी के खिलाफ थे. लेकिन हमने शादी कर ली क्योंकि मेरी बहन और बहनोई ने कोई विरोध नहीं किया. शादी के कुछ दिनों बाद मेरी पत्नी ने गांव में मंदिर बनाने की इच्छा जाहिर की लेकिन पूरा मंदिर बनने से पहले ही उसका निधन हो गया.’

राजू कहते हैं, ‘उसे पहले ही अपनी मौत का आभास हो गया था. उसके पास स्पेशल पावर थी. वह हमेशा एक मंदिर का सपना देखती थी. वह एक आध्यात्मिक किस्म की महिला थी. इन बातों ने मुझे यकीन दिला दिया कि मुझे मंदिर बनाकर उसकी देवी के रूप में पूजा करनी चाहिए.’


इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.
[shareaholic app=”share_buttons” id=”24259316″]

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *