Input your search keywords and press Enter.

पानीपुड़ी बेचने वाले यशस्वी का अंडर-19 टीम में हुआ सिलेक्शन

श्रीलंका दौरे पर गई भारत की अंडर-19 टीम में उत्तर प्रदेश के भदोही के यशस्वी जगह बनाने में सफल हुए हैं. मुंबई के आजाद मैदान पर पानीपुड़ी की दुकान पर काम करने वाले यशस्वी को भारत की अंडर-19 वनडे टीम में जगह मिली है. इस युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी के कोच ज्वाला सिंह बताते हैं कि यशस्वी के अंदर क्रिकेट की एक दीवानगी है. वह पैसे के लिए नहीं नाम के लिए खेलना चहता है.

Loading...

पूरा परिवार बेटे की इस उपलब्धि पर खुश है. सुरियावां नगर में पेंट की दुकान चलाने वाले पिता भूपेंद्र जायसवाल उर्फ गुड्डन ने बताया कि क्रिकेट यशस्वी के जिंदगी का सपना था. उसने कहा था बूट पॉलिश करना पड़ेगा तो भी करुंगा, लेकिन एक दिन अच्छा क्रिकेटर बन कर दिखाऊंगा.


Widget not in any sidebars

यशस्वी की प्रतिभा के कायल क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर भी हैं. उनके पिता बताते हैं कि सचिन ने यशस्वी को अपने घर भी बुलाया था और खेल के गुर सिखाने के बाद खुद के हस्ताक्षर से युक्त बल्ला सौंपा था. सचिन के बेटे का भी अंडर-19 टीम में चयन हुआ है लेकिन वह टेस्ट टीम में चुने गए हैं.

यशस्वी के अंदर महज पांच साल की उम्र से क्रिकेट का जुनून सवार था. यशस्वी को नींद में क्रिकेट मैदान, बल्ला और गेंद दिखते थे. यशस्वी के पिता भी एक अच्छे क्रिकेटर रहे हैं और अपने बेटे के कोच भी. वो अहमदाबाद की सिल्वर कंपनी के लिए कभी खेला करते थे.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.