Input your search keywords and press Enter.

लौंच हुआ स्वदेशी चैटिंग ऐप ‘बोलो मैसेंजर’, पतंजलि ने कहा – रहे सावधान

रामदेव की कंपनी पतंजलि की स्वदेशी चैटिंग ऐप ‘किंभो’ की डेवलपर अदिती कमल ने इसको ‘बोलो मैसेंजर’ नाम के साथ अपडेट कर दिया गया है. गूगल प्ले स्टोर पर किंभो ऐप अब बोलो मैसेंजर के नाम से मौजूद है और इसे 1 लाख से ज्यादा बाद डाउनलोड भी किया जा चुका है. वहीं पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने ट्वीट किया ‘बोलो ऐप का पतंजलि से कोई संबंध नहीं है बल्कि किंभो ऐप के डेवलपमेंट पर काम चल रहा है और जल्द ही इसे लॉन्च किया जाएगा.

डेवलपर अदिती कमल ने ईमेल के जरिए बताया कि ‘वॉट्सऐप के ऑप्शन के रूप में अब बोलो मैसेंजर ऐप एंड्रॉयड के लिए मौजूद है और जल्द ही इसे आईओएस यूजर्स के लिए भी जारी किया जाएगा.’ उन्होंने कहा कि जिन यूजर्स ने अभी तक किंभो ऐप को अनइंस्टॉल नहीं किया है, वे अपडेट करके बोलो मैसेंजर का यूज कर सकते हैं.

– अदिती ने आगे बताया कि ‘किंभो ऐप के लिए जिस आईपी का इस्तेमाल किया था, वो उनकी थी और बोलो मैसेंजर पर ही आधारित थी.’ उन्होंने ये भी बताया कि अब उनकी टीम बाबा रामदेव की किंभो ऐप के लिए काम नहीं करेगी.

Loading...

बोलो मैसेंजर पर लॉग-इन करने के लिए SMS के जरिए वेरिफिकेशन होगा. बोलो ऐप को किंभो के मुकाबले नए यूजर इंटरफेस के साथ लॉन्च किया गया है. हालांकि इसमें अभी भी वही लोगो है, जो किंभो ऐप में था. बोलो मैसेंजर से चैटिंग के अलावा ऑडियो-वीडियो कॉलिंग भी कर सकते हैं. साथ ही इसके डिस्क्रिप्शन में ये भी लिखा है कि सर्वर में यूजर का कोई भी डेटा सेव नहीं किया जाता है.

वहीं बोलो मैसेंजर के आने के बाद पतंजलि ने एक आधिकारिक बयान जारी कर फेक ऐप्स से सावधान रहने की बात कही है. पतंजलि के बयान में कहा गया है कि ‘किंभो ऐप जल्द ही गूगल प्ले स्टोर और एपल स्टोर पर अवेलेबल होगी. हम अभी ऐप में नए फीचर्स को एड करने पर काम कर रहे हैं. हमारी ऐप यूजर्सको बेहतरीन एक्सपीरियंस देने के लिए फीचर्स की टेस्टिंग कर रहे हैं.’ इसमें आगे कहा गया ‘जो कंपनियां और मैसेज पतंजलि के नाम पर फेक ऐप्स बना रही हैं, उनसे सावधान रहें.

पतंजलि ने 30 मई को स्वदेशी मैसेजिंग ऐप ‘किंभो ऐप’ को लॉन्च किया था और कहा था कि ये ऐप वॉट्सऐप को टक्कर देने की काबिलियत रखता है. लेकिन 24 घंटों के ही अंदर इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया गया था. इसके पीछे पतंजलि ने तकनीकी समस्याओं का हवाला दिया था. हालांकि सोशल मीडिया पर खबर चल रही थी कि पतंजलि ने पाकिस्तानी एक्ट्रेस और मॉडल मावरा होकेन की तस्वीरों का इस्तेमाल किया था और इसी वजह से इसे हटाया गया है.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.