Input your search keywords and press Enter.

बिना फॉर्मेट किये कम्प्यूटर को करें फास्ट

woman computer

girl on computer


गैजेट्स डेस्क:
अगर हम अपने कम्प्यूटर या लैपटॉप को लगातार यूज़ करते है, तो वो एक समय के बाद सिस्टम को स्लो कर देता हैं. सिस्टम को बूट होने में भी काफी टाइम लेता है या खुदबखुद रीस्टार्ट हो जाता है.

जिसे यूजर परेशान होकर सिस्टम को फॉर्मेट करना चाहते है. पर हम आपको कुछ ऐसे आसान उपाये से वाकिफ करवाने जा रहे है जिससे सिस्मट को बिना फॉर्मेट किये यूजर्स अपने स्लो सिस्टम को फास्ट कर सकते हैं.

# उपायें एक :- “रिसाइकिल बिन को हमेशा खाली रखें”.
जो फाइल यूजर्स के काम कि नहीं होती, उन्हें डिलीट कर दिया जाता है. ऐसे में डिलीट फाइल सिस्टम के रिसाइकिल बिन में चली जाती है. पर फाइल सिस्टम से पर्मानेंट डिलीट नहीं होती. क्योंकि रिसाइकिल बिन भी विंडोज का हिस्सा है इसलिए ये डिलीट फाइल विंडोज कि उस ड्राइव में हमेशा के लिए पड़ी रहती है जिसमें विंडोज इन्स्टॉल है और सिस्टम को स्लो कर देती है इसलिए यूजर्स फाइल को पर्मानेंट डिलीट “Shift + Delete” कमांड को यूज़ कर सकता है. ऐसे में फाइल रिसाइकिल बिन में ना जा कर पर्मानेंट डिलीट हो जाती है.

Loading...

# उपायें दो :- “स्टार्ट अप करें कम”.
कई बार लोग अपने सिस्टम

पर “स्टार्ट अप प्रोग्राम्स” को ज्यादा इंस्टॉल कर लेते हैं और ये ऑटोमैटिकली ऑन हो जाता हैं. इसमें कई विजेट्स जैसे “एनालॉग क्लॉक”, “स्क्रीन न्यूज फीड”, “जी-टॉक”, “स्काइप”, “बिट टोरेंट” जैसे प्रोग्राम शामिल हैं ऐसे में आपका सिस्टम ऑन होते ही स्लो हो जाता है.

स्टार्ट अप प्रोग्राम्स कैसे करें अनइंस्टॉल
* स्टार्ट मेनु पर जाएं और रन कमांड चुने या फिर ‘windows key + R’ क्लिक करें
* जो विंडो ओपन होगी उसमें “msconfig” लिखकर एंटर बटन दबाएं
* यहां से स्टार्ट अप (Start Up) टैब पर क्लिक करें और जिन प्रोग्राम्स का इस्तेमाल नहीं करना उन्हें लिस्ट से हटा दें.

# उपायें तीन :- “सी ड्राइव को खाली रखें”.
कम्प्यूटर में सी ड्राइव सबसे जरूरी ड्राइव होती है. क्योंकि सभी जरूरी सॉफ्टवेयर्स इसी हार्ड डिस्क में रहते हैं जिनके बिना आपका सिस्टम चल नहीं सकता. इसलिए इस ड्राइव में ज्यादा डाटा ना रखें. जो गैर जरूरी प्रोग्राम या सॉफ्टवेयर हैं उन्हें किसी और ड्राइव में इंस्टॉल करें. कोई भी पर्सनल डाटा हो तो C ड्राइव कभी नही रखें.
Beautiful woman laptop

# उपायें चार :- “एंटीवायरस एक से ज्यादा ना रखें”.
अपने कंप्यूटर को वायरस से बचाये रखने के लिए एंटीवायरस जरूरी है, पर दो के बजाये सिर्फ एक ही रजिस्टर्ड एंटीवायरस रखें. एंटीवायरस या फायरवॉल जैसे प्रोग्राम बहुत पावर लेता है ऐसे में दो प्रोग्राम्स एक साथ काम करेंगे तो स्पीड कम होगी.

उपायें पांच :- “हार्डवेयर का रखें ध्यान”.
अगर आपका पीसी बहुत पुराना हो गया हो तो उसके स्पीड बढ़ाने के लिए हार्डवेयर को बदल दे. जैसे पीसी के रैम को बढ़ा दें. पी सी के पुराने वायर्स को भी बदला जा सकता हैं. बुहत पुराने पीसी में पोर्ट्स जाम हो जाते हैं जिससे बार-बार पीसी हैंग होने लगता है तो किसी टेक्नीशियन को बुला कर हार्डवेयर की जांच करवा लें. विंडोज 7 या 8 ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करना behtar सकते हैं.

# उपायें छ: :- “डेस्कटॉप रखें साफ”.
अगर आप पीसी कि स्पीड बूस्ट करना चाहते हैं तो इसके लिए जरूरी है कि अपना डेस्कटॉप को साफ रखें. जितनी ज्यादा फाइल्स डेस्कटॉप में सेव होंगी उतनी ही ज्यादा मेमोरी स्पेस खर्च होगी.

# उपायें सात :- “रजिस्टर्ड एंटीवायरस का इस्तेमाल”.
पीसी को इंटरनेट से कनेक्ट करने से ढेरों वायरस और मालवेयर आ जाते हैं. इनकी वजह से पीसी की स्पीड धीमी हो जाती है. इसके लिए हमेशा रजिस्टर्ड एंटीवायरस का इस्तेमाल करें और हर हफ्ते या महीने में पीसी का फुल स्कैन कर दे.

इस न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.
[related_posts_by_tax title=” रिलेटेड न्यूज़ :”]

Leave a Reply

Your email address will not be published.