Breaking News
December 16, 2018 - मुख्यमंत्री ने जीविका के सहयोग से महिला कृषकों द्वारा किये जा रहे काॅन्ट्रैक्ट फार्मिंग का निरीक्षण किया, पंचायत सरकार भवन में लोक सेवा अधिकार केन्द्र का किया उद्घाटन।
December 16, 2018 - जदयू ने सरदार बल्लभ भाई पटेल की मनाई पुण्यतिथि,लोगों ने उनके मार्गदर्शन पर चलने का लिया संकल्प
December 15, 2018 - युवा अपनी शक्ति का सदुपयोग कर परिवार, समाज, राज्य देश को आगे बढ़ायें:- मुख्यमंत्री
December 14, 2018 - मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बिहार विकास मिशन के शासी निकाय की पांचवी बैठक संपन्न।
December 13, 2018 - मंजू वर्मा का छलका दर्द बोलीं- मुझसे क्या खता हुई
December 13, 2018 - सीट शेयरिंग पर राहुल गांधी का इंतजार कर रहे हैं बिहार के नेता
December 13, 2018 - राजनीति में आने पर खेसारी लाल ने दिया यह बड़ा बयान
December 13, 2018 - मुजफ्फरपुर बालिका गृह भवन को आज किया जा रहा ध्वस्त
December 13, 2018 - ‘खुद कंफ्यूज हैं उपेंद्र कुशवाहा’
December 13, 2018 - एक सीट पर नहीं मानेंगे मांझी, सीट शेयरिंग पर दिया बड़ा बयान

एसआईटी ने रीक्रिएट किया सीन, देखिए कैसे हुई थी लखनऊ की घटना

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए


लखनऊ में विवेक तिवारी हत्याकांड मामले में एसआईटी टीम ने विवेक की सहयोगी सना के साथ मौके वारदात का मुआयना किया. इस दौरान सना के बयान के आधार पर क्राइम सीन को फिर से रीक्रिएट किया गया. इस ​रीक्रिएशन से सबूतों और बयानों को मिलाया जायेगा.

चश्मदीद सना के बयान और घटनाक्रम के सिरे जोड़ते हुए जो बात सामने आती है. इसमें पता चला कि उस रात 1.39 बजे गोमतीनगर विस्तार में मकदूमपुर चौकी तरफ से विवेक तिवारी की गाड़ी शहीद पथ की तरफ बढ़ रही थी. एक मिनट बाद ही 1.40 पर विवेक की गाड़ी के सामने ​सिपाही प्रशांत और संदीप अचानक अपनी बाइक रोकते हैं. घबराकर विवेक वहां से निकलने की कोशिश करते हैं.

1.42 पर आरोपी सिपाही प्रशांत बीच सड़क पर खड़ा हो जाता है और विवेक की गाड़ी के सामने वाले शीशे पर गोली चला देता है. 1.45 लहूलुहान विवेक ने गाड़ी आगे बढ़ा दी और आगे जाकर उनकी गाड़ी शहीद पथ के अंडर पास के एक​ पिलर से टकरा जाती है.

इसके बाद बगल वाली सीट पर बैठी सना ने गाड़ी से उतरकर मदद के लिए गुहार लगाई. निष्कर्ष ये निकला कि सिपाही प्रशांत ने बीच सड़क पर विवेक की गाड़ी के सामने से गोली चलाई थी. गोली चलाने की वजह जो स्पष्ट हुई, वह बस इतनी थी कि विवेक ने प्रशांत के इशारा करने पर गाड़ी नहीं रोकी थी.

बता दें कि विवेक तिवारी की मौत के मामले की चश्मदीद सना ने पहली बार सोमवार को चुप्पी तोड़ी. उसने मीडिया को घटना की पूरी कहानी बताई. सना ने बताया, “मैं घटना के वक्त विवेक के साथ ही गाड़ी में मौजूद थी. सर मुझे गाड़ी से घर छोड़ने जा रहे थे. रास्ते में सिपाही दिखाई दिए जो गुस्से में थे. इसलिए गाड़ी रोकना सही नहीं लग रहा था. हमारी कार सिपाहियों से टच भी नहीं हुई थी, हम लोगों की पुलिस के साथ कोई बहस भी नहीं हुई थी.”

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *