Input your search keywords and press Enter.

छात्र – छात्राओं के लिए बड़ी खबर, बिना परीक्षा के होगें प्रमोट


देश में कोरोना संक्रमितों का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसे में राजस्थान सरकार ने इस साल प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों, महाविद्यालय और टेक्निकल एजुकेशन संस्थानों के अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रैजुएट कोर्सेस की परीक्षाएं नहीं कराने का फैसला लिया है।

यह निर्णय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मुख्यमंत्री निवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया।बैठक में अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते हुए, इस साल उच्च एवं तकनीकी शिक्षा के ग्रेजुएट और अंडरग्रैजुएट कोर्सेज की परीक्षाएं नहीं कराई जाएंगी। सभी विद्यार्थियों को बिना परीक्षा के अगली कक्षा में प्रमोट कर दिया जाएगा।‌ प्रमोट होने वाले बच्चों के अंकों के निर्धारण के संबंध में भारत सरकार के मिनिस्ट्री ऑफ ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट द्वारा कुछ दिनों में जारी होने वाली गाइडलाइंस का अध्ययन कर समुचित निर्णय लिया जाएगा।
इस बैठक में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी, तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग, मुख्य सचिव राजीव स्वरूप, मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, उच्च शिक्षा सचिव शुचि शर्मा, सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी सहित कई अधिकारी शामिल थे।

इससे पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने भी फैसला लिया था कि राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के छात्रों को बिना परीक्षा के पास किया जाएगा। उन्हें अगली क्लास में प्रमोट किया जाएगा। महामारी का हाल देखते हुए लगभग लगभग राज्य सरकारें यही फैसला ले रही हैं। अब ऐसे में यह देखना होगा कि यूजीसी के अंतर्गत चलने वाले केंद्रीय विश्वविद्यालय क्या फैसला लेते हैं हालांकि दिल्ली यूनिवर्सिटी जैसे कई विश्वविद्यालयों ने छात्रों को प्रमोट करने का फैसला लिया है।