Breaking News
February 21, 2019 - पुलवामा अटैक:भागलपुर शहीद रतन ठाकुर के परिवार की मदद करने युवाओं के साथ आगे आये:(Achiever Point)के निदेशक जी०डी० ज्ञानी….
February 21, 2019 - अब धारा 370 पर बीजेपी के विरोध में नीतीश कुमार का आया बयान
February 21, 2019 - विरोधियों के बोल से आगबबूला हुए तेज प्रताप, फिर दी ये बड़ी चुनौती
February 21, 2019 - विश्वविद्यालय के शिक्षक और कर्मचारियों को भी मिलेगा सातवें वेतनमान का लाभ
February 21, 2019 - अब एक्ट्रेस सनी लियोनी ने ट्वीट कर दी अपनी प्रतिक्रिया
February 21, 2019 - सनी लियोनी के टॉपर बनने पर सूबे में सियासत तेज, राजद और जदयू आमने-सामने
February 21, 2019 - इस नायाब तरीके से पूर्ण शराबबंदी होगी सफल, अब नहीं बच पाएंगे तस्कर
February 21, 2019 - ‘चाचा की “फ़र्ज़ी शिक्षा, डिग्री और नियुक्ति” जैसी नीतियों से सनी लियोनी बनी टॉपर’
February 21, 2019 - पटना में होने वाली एनडीए की रैली को लेकर चिराग ने किया यह बड़ा दावा
February 21, 2019 - बंगला की धीरे-धीरे पोल खोल रहे है सुशील मोदी, अब ट्वीट कहीं यह बात

आज़म खान पर कार्रवाई को लेकर भड़के अखिलेश ने बीजेपी पर बोला हमला, कहा…

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए


न्यूज़ डेस्क : सपा सरकार में पूर्व मंत्री सह सपा के कद्दावर नेता आजम खान पर जल निगम में नियम के विरुद्ध तरीके से भर्ती करने के आरोप लगे हैं और अब उनपर कार्रवाई की जाएगी. सपा के कद्दावर नेता आज़म खान पर कार्रवाई को लेकर भड़के उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला है.

उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह ईमानदार और धर्मनिरपेक्ष छवि के नेता आज़म खान को बदनाम करने की कोशिश कर रही है. जल निगम में की गई बहाली से उनका किसी भी प्रकार का लेना-देना नहीं है. यह सिर्फ उन्ही छवि बिगाड़ने के लिए साजिश रची जा रही है. यह एक बीजेपी का यह आचरण लोकतांत्रिक और राजनीतिक मूल्यों की गिरावट का उदाहरण है.

अखिलेश यादव ने कहा कि सपा सरकार के समय की भर्तियों पर रोक लगाकर बीजेपी ने घटिया मानसिकता का परिचय दिया है. जब से बीजेपी सत्ता में आई है, तब से किसी को रोजगार नहीं मिल है. बीजेपी की नीति और नियत, दोनों में खोट है. उनका एजेंडा गरीब, नौजवान, अल्पसंख्यक विरोधी है.
गौरतलब है कि बता दें कि सपा शासनकाल में कैबिनेट मंत्री रहे आजम खान जल निगम बोर्ड के चेयरमैन भी थे. उनके शासनकाल के दौरान साल 2016 में 122 सहायक अभियंता, 335 नैतिक लिपिक व 32 आशुलिपिट समेत 1300 पदों पर भर्तियां की गईं थीं, जिसके लिए वित्त विभाग से अनुमति नहीं ली गई थी. जल निगम ने उस दौरान अपने स्तर से भर्ती को मंजूरी दे दी थी. योगी सरकार इस मामले में पहले ही 122 सहायक अभियंताओं को बर्खास्त कर चुकी है. जिस पर अभी जांच चल रही है.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *