Breaking News
December 16, 2018 - मुख्यमंत्री ने जीविका के सहयोग से महिला कृषकों द्वारा किये जा रहे काॅन्ट्रैक्ट फार्मिंग का निरीक्षण किया, पंचायत सरकार भवन में लोक सेवा अधिकार केन्द्र का किया उद्घाटन।
December 16, 2018 - जदयू ने सरदार बल्लभ भाई पटेल की मनाई पुण्यतिथि,लोगों ने उनके मार्गदर्शन पर चलने का लिया संकल्प
December 15, 2018 - युवा अपनी शक्ति का सदुपयोग कर परिवार, समाज, राज्य देश को आगे बढ़ायें:- मुख्यमंत्री
December 14, 2018 - मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बिहार विकास मिशन के शासी निकाय की पांचवी बैठक संपन्न।
December 13, 2018 - मंजू वर्मा का छलका दर्द बोलीं- मुझसे क्या खता हुई
December 13, 2018 - सीट शेयरिंग पर राहुल गांधी का इंतजार कर रहे हैं बिहार के नेता
December 13, 2018 - राजनीति में आने पर खेसारी लाल ने दिया यह बड़ा बयान
December 13, 2018 - मुजफ्फरपुर बालिका गृह भवन को आज किया जा रहा ध्वस्त
December 13, 2018 - ‘खुद कंफ्यूज हैं उपेंद्र कुशवाहा’
December 13, 2018 - एक सीट पर नहीं मानेंगे मांझी, सीट शेयरिंग पर दिया बड़ा बयान

आज़म खान पर कार्रवाई को लेकर भड़के अखिलेश ने बीजेपी पर बोला हमला, कहा…

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए


न्यूज़ डेस्क : सपा सरकार में पूर्व मंत्री सह सपा के कद्दावर नेता आजम खान पर जल निगम में नियम के विरुद्ध तरीके से भर्ती करने के आरोप लगे हैं और अब उनपर कार्रवाई की जाएगी. सपा के कद्दावर नेता आज़म खान पर कार्रवाई को लेकर भड़के उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला है.

उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह ईमानदार और धर्मनिरपेक्ष छवि के नेता आज़म खान को बदनाम करने की कोशिश कर रही है. जल निगम में की गई बहाली से उनका किसी भी प्रकार का लेना-देना नहीं है. यह सिर्फ उन्ही छवि बिगाड़ने के लिए साजिश रची जा रही है. यह एक बीजेपी का यह आचरण लोकतांत्रिक और राजनीतिक मूल्यों की गिरावट का उदाहरण है.

अखिलेश यादव ने कहा कि सपा सरकार के समय की भर्तियों पर रोक लगाकर बीजेपी ने घटिया मानसिकता का परिचय दिया है. जब से बीजेपी सत्ता में आई है, तब से किसी को रोजगार नहीं मिल है. बीजेपी की नीति और नियत, दोनों में खोट है. उनका एजेंडा गरीब, नौजवान, अल्पसंख्यक विरोधी है.
गौरतलब है कि बता दें कि सपा शासनकाल में कैबिनेट मंत्री रहे आजम खान जल निगम बोर्ड के चेयरमैन भी थे. उनके शासनकाल के दौरान साल 2016 में 122 सहायक अभियंता, 335 नैतिक लिपिक व 32 आशुलिपिट समेत 1300 पदों पर भर्तियां की गईं थीं, जिसके लिए वित्त विभाग से अनुमति नहीं ली गई थी. जल निगम ने उस दौरान अपने स्तर से भर्ती को मंजूरी दे दी थी. योगी सरकार इस मामले में पहले ही 122 सहायक अभियंताओं को बर्खास्त कर चुकी है. जिस पर अभी जांच चल रही है.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए
Tagged with:

About author

Related Articles

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *