Breaking News
January 19, 2019 - तेज प्रताप ने नए आवास में जाने के लिए की चुपके से पूजा, तस्वीर देख रह गए सभी दंग
January 19, 2019 - IRCTC घोटाला: लालू की बढ़ी अंतरिम जमानत अवधि, कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला
January 19, 2019 - दरभंगा में इन दो दिग्गजों के बीच होगा महामुकाबला
January 19, 2019 - रेल परियोजना को लेकर हाजीपुर मुख्य जोनल पर धरणा/प्रदशॅन आपर सहयोग से भारी जनसमथॅन से संपन्न। अागामी 29 जनवरी को दिल्ली मे आमरण अनशन-मनोज
January 18, 2019 - मैच के बाद धोनी ने कही दिल जीत लेने वाली बातें
January 18, 2019 - मुंगेर में अनंत सिंह ने दिखाई ताकत
January 18, 2019 - रघुवंश प्रसाद बीजेपी में होंगे शामिल?
January 18, 2019 - कन्हैया कुमार बेगुसराय से ही लड़ेंगे, हो गया फाइनल
January 17, 2019 - मुख्यमंत्री ने गंडक नदी पर निर्माणाधीन बंगरा घाट पुल, सत्तर घाट पुल एवं बेतिया-गोपालगंज पुल का किया एरियल सर्वेक्षण
January 17, 2019 - हमलोगों की प्रतिबद्धता न्याय के साथ विकास की है: मुख्यमंत्री

इलाहाबाद और सिद्धार्थनगर में इस बार तोड़ी गई आंबेडकर की मूर्ति, मचा हडकंप

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए


न्यूज़ डेस्क : त्रिपुरा से शुरू हुआ मूर्ति टूटने का सिलसिला अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है. उत्तर प्रदेश में कई जगहों से बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर की प्रतिमा एक बार फिर से तोड़े जाने की खबर आ रही है. ताजा मामला इलाहाबाद और सिद्धार्थनगर का है, जहां अराजक तत्वों ने डॉ. बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर की मूर्ति तोड़ दी है.

हालांकि मूर्ति तोड़ने की घटना के पीछे किन लोगों का हाथ है, अभी यह सामने नहीं आ सका है. पर कहा जा रहा है कि इसके पीछे शरारती तत्व का हाथ है. मिली जानकारी के अनुसार इलाहाबाद के झूसी इलाके में एक पार्क में लगी बाबा साहेब भीम राव अांबेडकर की मूर्ति को हथौड़े से वार करके तोड़ा गया है. शनिवार अहले सुबह जब लोगों ने टूटी हुई मूर्ति को देखा तो हंगामा करने लगे. मूर्ति तोड़े जाने की खबर मिलते ही सपा-बसपा के नेता और कार्यकर्त्ता भी मौके पर पहुंच गए. हालात को देखते हुए मौके पर भरी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है.

गौरतलब है कि इस से पहले भी आजमगढ़, मेरठ, एटा में आंबेडकर की प्रतिमा को तोड़ने और नुकसान पहुंचाने की घटनाएं सामने आई थीं. आपको बता दें कि यह सिलसिला त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में बीजेपी को मिली जीत के बाद शुरू हुई थी. जहाँ उनके समर्थकों ने लेनिन की मूर्ति पर बुलडोजर गिरा दिया था. हालांकि इस घटना के बाद सरकार की बहुत किरकिरी हुई थी.

शेयर कर और लोगों तक पहुंचाए

About author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *