Input your search keywords and press Enter.

पाकिस्तानी झंडे को बैन करने को लेकर रिजवी ने की बड़ी मांग, इस्लाम के नाम पर……

न्यूज़ डेस्क : शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने एक रिट याचिका दाखिल कर इस्लाम के नाम पर पाकिस्तानी झंडे का इस्तेमाल बंद करने की मांग की है. यह रिट उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की है. उन्होंने मांग की है कि इस्लाम के नाम पर देश में जिस झंडे का इस्तेमाल किया जाता है, वह पाकिस्तान की राजनीतिक पार्टी मुस्लिम लीग का झंडा है, उसे बैन किया जाए.

इसके साथ ही उन्होंने दावा करते हुए कहा कि इवासिम रिजवी ने स्लाम में इस तरह के झंडे का कहीं जिक्र या इतिहास नहीं है. देश में ऐसा झंडा लगाना संविधान विरोधी है. रिट दायर करने के बाद एक निजी चैनल से बातचीत के दौरान रिजवी ने कहा कि मुस्लिम समुदाय जो हरे रंग के झंडे में चांद तारा के साथ जो झंडा इस्तेमाल करते हैं, वह कोई इस्लामिक फ्लैग नहीं है.

Loading...

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ‘न ही इस्लाम में इस तरह के झंडे का कोई जिक्र है. उनका कहना है कि 1906 में ​मुस्लिम लीग के गठन के साथ ये झंडा बनाया गया. ये झंडा मुस्लिम लीग की पहचान बना. इससे पहले इस झंडे की कोई इस्लामिक इतिहास नहीं रहा है. ये राजनीतिक झंडा बनाया गया था. पाकिस्तान जब अलग हो गया तो जिन्ना आदि इसे लेकर पाकिस्तान चले गए. इसी से पाकिस्तान का झंडा बनाया गया. वहीं पाकिस्तान की मुस्लिम लीग में आज भी ये झंडा इस्तेमाल किया जाता है. इस झंडे को यहां के कट्टरपंथी मुसलमानों ने पाकिस्तान की मोहब्बत में इस झंडे को कायम रखा और इसे धार्मिक झंडा बना दिया.’ उनका कहना है कि यह कोई धार्मिक झंडा नहीं है बल्कि यह राजनीतिक झंडा है.


Widget not in any sidebars

Leave a Reply

Your email address will not be published.